Tuesday , December 19 2017

अमरीका को इरान से दाइश के ख़िलाफ़ अहम किरदार की तवक़्क़ो

अमरीका का कहना है कि ईरान दाइश के ख़िलाफ़ लड़ाई में अहम किरदार अदा कर सकता है। वज़ीर-ए-ख़ारजा अमरीका जान कैरी ने कहा कि तेहरान की फ़ौजी इत्तिहाद में शमूलीयत ज़रूरी नहीं है, इत्तिहाद में शामिल हुए बगैर भी ईरान मदद कर सकता है।

अमरीका का कहना है कि ईरान दाइश के ख़िलाफ़ लड़ाई में अहम किरदार अदा कर सकता है। वज़ीर-ए-ख़ारजा अमरीका जान कैरी ने कहा कि तेहरान की फ़ौजी इत्तिहाद में शमूलीयत ज़रूरी नहीं है, इत्तिहाद में शामिल हुए बगैर भी ईरान मदद कर सकता है।

24 घंटों में 66 हज़ार शामी कुरद तुर्की में दाख़िल हो गए। 300 तर्क कुरद जंगजू तुर्की की सरहद उबूर करके शाम में दाख़िल होगए हैं। शाम की शुमाली सरहद के नज़दीक शामी कुर्दों से लड़ाई में दाइश के 18 जंगजू मारे गए जब कि आई एस की जानिब से अग़वा किए गए 49 तुर्क बाशिंदों को रिहा कर दिया गया है।

वज़ीर-ए-ख़ारजा इरान मुहम्मद जव्वाद ज़रीफ़ ने भी ख़बरदार किया है कि हवाई हमलों से दौलत इस्लामिया को तबाह नहीं किया जा सकता है। गुज़श्ता चौबीस घंटों में 66 हज़ार शामी कुरद तुर्की में दाख़िल हो गए हैं,

तुर्की के नायब वज़ीर-ए-आज़म ने बताया है कि गुज़श्ता एक दिन में शाम से 45 हज़ार कुर्द तुर्की में दाख़िल हुए हैं। पनाह गुज़ीनों का कहना है कि वो दौलत इस्लामिया की ज़ालिमाना कार्रवाई के ख़ौफ़ से नक़्ल-ए-मकानी पर मजबूर हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT