Saturday , December 16 2017

अमरीका को जंगबाज़ी के ख़िलाफ़ चीन का इंतिबाह

शंघाई 9 जनवरी (एजैंसीज़) चीन के सरकारी ज़राए इबलाग़ ने अमरीका को इंतिबाह दिया कि फ़ौजी ज़हनीयत पर बेधड़क अमल और जंग बार्स ख़तरनाक साबित होगी। चीन पर बढ़ती हुई तवज्जा पर मबनी अमरीकी दिफ़ाई हिक्मत-ए-अमली को तन्क़ीद का निशाना बनाते

शंघाई 9 जनवरी (एजैंसीज़) चीन के सरकारी ज़राए इबलाग़ ने अमरीका को इंतिबाह दिया कि फ़ौजी ज़हनीयत पर बेधड़क अमल और जंग बार्स ख़तरनाक साबित होगी। चीन पर बढ़ती हुई तवज्जा पर मबनी अमरीकी दिफ़ाई हिक्मत-ए-अमली को तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए ख़बररसां इदारा झुन्नावा ने अमरीका पर ज़ोर दिया कि अमरीका को मशरिक़ के इलाक़ा में तामीरी किरदार अदा करना चाहीए। सरकारी ज़राए इबलाग़ ने भी इंतिबाह दिया है कि क़ौमी दिफ़ाई हिक्मत-ए-अमली की तंज़ीम जदीद और चीन को सयान्ती ख़तरा तसव्वुर करना एतिमाद बाहमी के लिए ख़तरनाक साबित होसकता है। इस से चीन और अमरीका के दरमयान कशीदगी में इज़ाफ़ा का अंदेशा है।

इस तबसरा में कहा गया है कि अमरीका एशयाए को चक के इलाक़ा में अपनी फ़ौजी मौजूदगी को मुस्तहकम करना चाहता और चीन को तवील मुद्दती ख़तरा तसव्वुर करता है। अमरीकी मआशी और सयान्ती मुफ़ादात का इस इलाक़ा से अटूट ताल्लुक़ है। चुनांचे अमरीका को एशयाए कोचक के बारे में अपनी फ़ौजी पालिसी को भी इसी के मुताबिक़ तबदील करना ज़रूरी है। उसे अपने एशियाई हलीफ़ ममालिक को मुस्तहकम करने और हिंदूस्तान के साथ दिफ़ाई शराकतदारी के क़ियाम की पालिसी पर भी नज़रसानी की ज़रूरत है।

सरकारी ज़ेर-ए-इंतिज़ाम रोज़नामाचाइना डेली अमरीका पर मसाइब का ख़ालिक़ होने का इल्ज़ाम भी आइद किया। अमरीकी आलमी क़ियादत को पायदार बनाने 21 वीं सदी में अमरीका की दिफ़ाई तर्जीहात के ज़ेर-ए-उनवान शाय शूदा तजज़िया में सदर ओबामा की नई दिफ़ाई पालिसी पर जिस का मक़सद अमरीकी हरकियाती जंगजू फ़ौज के क़ियाम और एशिया और बहर-ए-अलकाहिल में इस की ताय्युनाती में इज़ाफ़ा पर शदीद तन्क़ीद की गई है ताहम चीन का सरकारी मौक़िफ़ ज़ाहिरनहीं किया गया है।

TOPPOPULARRECENT