Monday , January 22 2018

अमरीकी कॉरपोरेट शोबा से मर्कज़ी वज़ीर‍-ए‍-तिजारत आनंद शर्मा की अपील

वाशिंगटन 13 जुलाई (पी टी आई) ये इद्दिआ करते हुए कि हिन्दुस्तान मआशी इस्लाहात और फ़राख़दिल पालिसी इख़तियार करने का पाबंद है, मर्कज़ी वज़ीर-ए-सनअत-ओ-तिजारत आनंद शर्मा ने अमरीका के कॉरपोरेट शोबा से कहा कि वो हिन्दुस्तान निज़ाम पर भरोसा रखें

वाशिंगटन 13 जुलाई (पी टी आई) ये इद्दिआ करते हुए कि हिन्दुस्तान मआशी इस्लाहात और फ़राख़दिल पालिसी इख़तियार करने का पाबंद है, मर्कज़ी वज़ीर-ए-सनअत-ओ-तिजारत आनंद शर्मा ने अमरीका के कॉरपोरेट शोबा से कहा कि वो हिन्दुस्तान निज़ाम पर भरोसा रखें और दोनों ममालिक के दरमियान शराकतदारी के क़ियाम में मदद करें।

हिंद अमरीका बिज़नस कौंसल की सालाना चोटी कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए मर्कज़ी वज़ीर-ए-सनअत-ओ-तिजारत आनंद शर्मा ने हिन्दुस्तान में अमरीकी सरमायाकारी की पुरज़ोर वकालत की।

ये उनके बैरूनी दौरे की पहली मंज़िल थी। वो यहां से न्यूयार्क के दौरे पर जाऐंगे ताकि अमरीकी कॉरपोरेट शोबा के क़ाइदीन से मुलाक़ात करसकें। आनंदशर्मा ने कहा कि वक़्त का तक़ाज़ा है कि शराकतदारी क़ायम की जाये।

जिस का 21 वीं सदी पर नुमायां असर मुरत्तिब हो। सदर अमरीका बारक ओबामा ने 2010 में अपने दौरा‍-ए‍-हिन्द के मौक़े पर इसका इशारा दिया था। आनंद शर्मा ने कहा कि ओबामा और वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह दोनों बाहमी ताल्लुक़ात को अज़ीम तर बुलंदीयों तक पहूँचाने के पाबंद हैं।

उन्होंने कहा कि हम मुस्तहकम और ग़ैर मुनक़सिम वाबस्तगी रखते हैं कि हिन्दुस्तान और अमरीका की शराकतदारी को इस्तिहकाम फ़राहम करें। उन्होंने यू एस चैंबर्स आफ़ कॉमर्स के एक हुजूम जल्सा-ए-आम से ख़िताब करते हुए कहा कि दोनों ममालिक मिलकरजो कुछ करसकते हैं वो दोनों के लिए बहुत अहम है।

उन्होंने मज़ीद कहा कि दोनों ममालिक के तरजीही शोबों की एक तवील फ़हरिस्त है जो दिफ़ा के शोबा से लेकर ख़ला और इनफ़रास्ट्रक्चर के शोबों तक फैली हुई है। उन्होंने तस्लीम किया कि हिन्दुस्तान और अमरीका ने जो कुछ कारनामे अंजाम दिए हैं वो यक़ीनन तवक़्क़ो से बहुत कम हैं। मज़ीद तआवुन ज़रूरी है।

TOPPOPULARRECENT