अमित शाह बोले- मोदी सत्ता में रहे या न रहे, लेकिन…?

अमित शाह बोले- मोदी सत्ता में रहे या न रहे, लेकिन…?

पश्चिम बंगाल के कल्याणी में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह ने जोर देकर कहा कि चाहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र में भाजपा रहे या ना रहे, कोई भी भारत को कश्मीर से अलग नहीं कर सकेगा।

शाह ने कहा कि अगर दोबारा सत्ता मिली तो भाजपा जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा देगी। शाह बोनगांव लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले इस क्षेत्र में कहा, “मोदी अभी भारत के प्रधानमंत्री हैं। वह दोबारा प्रधानमंत्री चुने जाएंगे।

लेकिन अगर ऐसा समय आया जब मोदीजी और न ही भाजपा केंद्र में सत्ता में रहे, तब भी कोई भी भारत को कश्मीर से अलग नहीं कर सकेगा।”

उन्होंने कहा, “जबतक भाजपा का एक भी कार्यकर्ता जिंदा है, हम ऐसा नहीं होने देंगे। कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। यह हमारी मातृभूमि के मुकुट का गहना है। हमें बंगाल में 23 सीटें दीजिए। हम वादा करते हैं कि हम कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा देंगे।”

कोलकाता में जनवरी में हुई गैर भाजपा रैली में जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को बुलाने पर उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा और कहा कि बनर्जी को स्पष्ट करना चाहिए कि क्या वह कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री के अब्दुल्ला के बयान का समर्थन करती हैं?

उन्होंने पूछा, “ममता बनर्जी ने कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में उमर अब्दुल्ला को आमंत्रित किया था और उनका हाथ पकड़ा था। उमर अब्दुल्ला ने एक बयान दिया था कि कश्मीर के लिए एक अलग प्रधानमंत्री होना चाहिए। बताइए क्या देश में दो प्रधानमंत्री होने चाहिए।”

इंडिया टीवी न्यूज़ डॉट कॉम के अनुसार, भाजपा नेता ने कहा, “मैं ममता दीदी से पूछना चाहता हूं कि क्या वह अब्दुल्ला के बयान से सहमत हैं। मैं निश्चिंत हूं कि वह इसपर चुप्पी साध लेंगी, क्योंकि यह उनके वोटबैंक का प्रश्न है।”

शाह ने दलित मतुआ समुदाय बहुल इलाके में कहा कि एक बार चुने जाने पर, नरेंद्र मोदी सरकार देश के सभी शरणार्थियों के नागरिकता अधिकार के लिए नागरिकता संशोधन विधेयक लाएगी। मतुआ समुदाय के लोग हिदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं, जो बांग्लादेश से यहां आए हैं।

उन्होंने कहा, “ममता दीदी, आपकी विदाई तय है। एक बार जब 2019 लोकसभा चुनाव के नतीजे आएंगे और भाजपा 23 सीटों पर कब्जा जमाएगी, आपकी विदाई की पुष्टि हो जाएगी। लोगों ने यह निर्णय कर लिया है कि जब 23 मई को चुनाव नतीजे आएंगे, बंगाल में ‘परिबर्तन’ के नए सूर्य का उदय होगा।”

Top Stories