Tuesday , December 19 2017

अमीत शाह ओवैसी मुलाक़ात,सच्च है तो ये एक ख़तरनाक रुजहान

नई दिल्ली 18 जुलाई: दिल्ली के चीफ़ मिनिस्टर अरविंद केजरीवाल ने मुख़्तलिफ़ मसाइल पर मर्कज़ के साथ तल्ख़ लफ़्ज़ी जंग के बीच नरेंद्र मोदी हुकूमत पर हुकूमत दिल्ली के साथ अपने ताल्लुक़ात को हिंद पाक ताल्लुक़ात जैसी सूरत-ए-हाल में तबदील कर देने का इल्ज़ाम आइद किया और कहा कि उनके कामों में अगर रुकावटें ना हुईं तो उन्हें इस शहर के लिए अब तक किए जा चुके इक़दामात से चार गुना ज़ाइद इक़दामात करने में मदद मिल सकती थी। केजरीवाल ने टॉक टू ए के के पहले शो में कई हस्सास मसाइल को मौज़ू बनाया जिनमें 21 पारलीमानी सेक्रेटरीज़ के तक़र्रुत, सीबीआई की तरफ से एक सरकरदा सरकारी अफ़्सर और सरकारी आफ़िसरान के तबादले जैसे मौज़ूआत भी शामिल हैं। आम आदमी पार्टी (अआप) के क़ौमी सतह पर राबिता में इज़ाफे की कोशिश समझे जानेवाले इस टॉक शो में केजरीवाल ने वज़ीर-ए-आज़म पर तंज़ करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी की नज़र में वो (केजरीवाल) ही मुल्क के वाहिद रिश्वतखोर चीफ़ मिनिस्टर हैं।

दिल्ली के चीफ़ मिनिस्टर ने सवाल जवाब के दो घंटे के इस सेशन में इल्ज़ाम आइद किया कि मर्कज़ी हुकूमत, दिल्ली की आम आदमी पार्टी हुकूमत को तोड़ने की कोशिश कर रही है और बीजेपी के सदर अमीत शाह सीबीआई के निगरान के तौर पर तमाम इंतेज़ामात कर रहे हैं। लेकिन क़िस्मत चंद दिन ही किसी का साथ देती है और बहुत जल्द ये सूरत-ए-हाल ख़त्म हो जाएगीगी। केजरीवाल ने कहा कि अगर वो (मोदी हुकूमत) मर्कज़ और दिल्ली के बीच हिंद पाक जैसी सूरत-ए-हाल पैदा नहीं करती तो आज तक जो कुछ काम कर चुके हैं, इस से चार गुना ज़ाइद काम कर सकते थे। दिल्ली के चीफ़ मिनिस्टर ने जज़बात से मग़्लूब लब-ओ‍लहजे में कहा कि मैंने उन (वज़ीर-ए-आज़म) से कहा था कि अगर मुझसे कोई ग़लती हुई है तो मुझे माफ़ कर दें लेकिन बराए मेहरबानी इस किस्म की रुकावटें पैदा ना कीजिए। केजरीवाल का टॉक शो दरअसल वज़ीर-ए-आज़म मोदी के माहाना रेडीयो ख़िताब मन की बात का जवाब समझा जा रहा है जिसमें उन्होंने इल्ज़ाम आइद किया कि दिल्ली अब मर्कज़ के रवैये की शिकार और मुतास्सिरा रियासत बन गई है क्यु‍ंकि अआप के अरकाने असेंबली को ग़लत इल्ज़ामात के तहत गिरफ़्तार किया जा रहा है।

गुजरात से ताल्लुक़ रखने वाले बीजेपी के एक साबिक़ रुकने असैंबली या तीन औज़ा की तरफ से उन्हें रवाना करदा एक मकतूब के बारे में जिसमें 2015 के बिहार असे‍ंबली चुनाव से पहले मजलिस इत्तेहाद उलमुस्लिमीन के रुकने असे‍ंबली अकबरुद्दीन ओवैसी से बीजेपी सदर अमीत शाह की मुलाक़ात का इल्ज़ाम आइद किया गया है। केजरीवाल ने कहा कि अगर ये दावा सही है तो ये एक इंतेहाई ख़तरनाक बात होगी। उन्होंने कहा कि औज़ा एक सीनीयर वकील हैं जो अमीत शाह से बहुत क़रीब थे चुनांचे मकतूब में जो कुछ बयान किया गया है अगर वो दरुस्त है तो ये इंतेहाई ख़तरनाक है। अवाम उन्हें सबक़ सिखाने का फ़ैसला कर चुके हैं। अगर अवाम चाहें तो हम गुजरात असेंबली चुनाव में हिस्सा लेंगे।

TOPPOPULARRECENT