Friday , April 27 2018

अमेरिका को झटका, सऊदी अरब ने यरूशलम और फलस्‍तीनीयों के हक़ से समझौता करने से किया इंकार

पिछले साल ट्रम्प ने जेरुसलम पर एक विवादित फैसला लिया था की “वह इजराइल में अमेरिका के दूतावास को तेल अविव से जेरुसलम में स्थान्तरित करेंगे और इजराइल की राजधानी के रूप में जेरुसलम को मान्यता देंगे”।

जिसके बाद अमेरिका और इजराइल की पूरे विश्व में निंदा की गयी, जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किये गए, जिसमे कई लोग घायल हो गए और कई मौते हुई।

29 वें अरब लीग की बैठक रियाद में आयोजित की गयी, जिसमे मुख्य बैठक से पहले सऊदी अरब के विदेश मंत्री अल-जुबेइर ने कहा था की “इस बैठक में मुख्य मुद्दा फिलिस्तीन होगा।

रविवार को अरब लीग की बैठक का उद्घाटन करते हुए किंग सलमान, जो की दो पवित्र मस्जिदों के कस्टोडियन सऊदी अरब के किंग सलमान ने अमेरिका के तेल अवीव से अपनी एम्बेसी को जेरुसलम में स्थान्तरित करने के कदम की आलोचना की।

किन सलमान ने एक भाषण में कहा की “हम जेरुसलम पर अमेरिकी निर्णय को अस्वीकार करते हैं।” हम अंतरराष्ट्रीय सहमती की सराहना करते हैं जो इसे ख़ारिज करते हैं, पूर्वी जेरुसलम फिलिस्तीनी जमीन का हिस्सा है।

उन्होंने क्षेत्रीय मामलों में ईरान के हस्तक्षेप की भी निंदा की और कहा की “हम फिर से ईरान के अरब देशों में हस्तक्षेप करने की निंदा करते हैं, ईरान के आतंकवादी कृत्यों की निंदा करते हैं।

किंग ने कहा की “हम सुरक्षा परिषद् के उस बयान का स्वागत करते हैं जिसमे सऊदी अरब में हौथी लड़ाकों द्वारा किये गए मिसाइल हमलों के लिए निंदा की गयी है।

TOPPOPULARRECENT