Friday , December 15 2017

अमेरिका को पाकिस्तानी दहशतगर्दों से खतरा

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तान (टीटीपी) के सरगना हकीमुल्‍ला महसूद की ड्रोन हमले में मौत के बाद पाकिस्‍तान और अमेरिका के रिश्‍तों में तनाव आ गया है | हालात इतने पेचीदा हो गए हैं कि वज़ीर ए आज़म नवाज शरीफ को कैबिनेट की इमरजेंसी मीटिंग बुला

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तान (टीटीपी) के सरगना हकीमुल्‍ला महसूद की ड्रोन हमले में मौत के बाद पाकिस्‍तान और अमेरिका के रिश्‍तों में तनाव आ गया है | हालात इतने पेचीदा हो गए हैं कि वज़ीर ए आज़म नवाज शरीफ को कैबिनेट की इमरजेंसी मीटिंग बुलानी पड़ी | कैबिनेट की बैठक के बाद पाकिस्‍तान ने महसूद के कत्ल को खुदमुख्तारी पर हमला करार दिया |

पाकिस्तान ने अमेरिकी कार्रवाई को तालिबान के साथ होने वाली पाक हुकूमत की बातचीत में रुकावट डालने वाला बताया है | पाकिस्तान का कहना है कि वह अमेरिका के साथ अपने ताल्लुक का दोबारा जायज़ा करेगा, लेकिन अमेरिका हमेशा की तरह पाकिस्‍तान के इल्ज़ामात का जवाब नहीं दे रहा है |

इस्‍लामाबाद वाकेय् अमेरिकी सिफारतखाने के तर्जुमान संदीप पॉल ने कहा-हम अभी तक हकीमुल्‍ला की मौत की तस्दीक नहीं कर सकते हैं, लेकिन इतना तो तय है कि हकीमुल्‍ला अमेरिका मुखालिफ सरगर्मियों चला रहा था | हकीमुल्‍ला महसूद ने अफगानिस्‍तान के खोस्‍त सूबे में सीआईए के खुफिया ठिकाने पर हमला कराया था |

हकीमुल्‍ला के मारे जाने से भले ही अमेरिका को राहत मिली है, लेकिन अब भी कई ऐसे दहशतगर्द हैं, जो पाकिस्‍तान, अफगानिस्‍तान, अफ्रीकी ममालिक में छिपकर हमले की तैयारी कर रहे हैं | इनमें से ही एक है अलकायदा सरगना अयमान अल जवाहिरी, जिसके पाकिस्‍तान में छिपे होने का शक है |

————————-बशुक्रिया: पलपल इंडिया

TOPPOPULARRECENT