Friday , December 15 2017

अमेरिका ने तस्करी और यौन शोषण के जुर्म में 472 साल की जेल की सजा देकर पूरे देश में दिया कड़ा संदेश

कोलार्डो : अमेरिका में एक शख्स को बच्चों की तस्करी और यौन शोषण के जुर्म में 31 साल के ब्रॉक फ्रैंकलिन नाम के शख्स को स्थानीय अदालत जज पीटर मिशील्सन ने 472 साल की सजा सुनाई है। कोलार्डो (अमेरिका का एक राज्य) के अटॉर्नी जनरल ने मामले पर मीडिया से कहा कि 400 की सजा से पूरे देश में एक कड़ा संदेश गया है कि सरकार बच्चों और महिलाओं के खिलाफ होने वाले इस तरह के अपराध को बर्दाश्त नहीं करेगी। अमेरिका के इतिहास में मानव तस्करी में यह सबसे लंबे समय की सजा है। पीड़ित के वकील की मांग थी कि दोषी को कम से कम 600 साल की सजा दी जाए।

इससे पहले अदालत ने अरोपी फ्रैंकलिन को इसी साल मार्च में मामले में दोषी पाया था। फ्रैंकलिन पर आरोप था कि उसने 30 बार से ज्यादा नाबालिग लड़कियों और महिलाओं वाला सेक्स रैकेट चलाया जोकि कोलार्डो के संगठित अपराध नियंत्रण कानून का उल्लंघन है। पीड़िता की ओर से पैरवी करने वाले वकीलों ने अदालत को बताया कि दोषी फ्रैंकलिन बच्चों को अपने वश में करने के लिए नशीले पदार्थ और हिंसा का प्रयोग करता था। वह बच्चों को डरा धमकाकर नियममित रूप से संबंध बनाने के लिए दबाव डालता था और ऑनलाइव सेवा के जरिए वेश्यावृत्ति का धंधा करता था। यह अपराध के शहर के कई महंगे होटलों में अंजाम दिया जाता था।।

साल 2015 में फ्रैंकलिन के साथ छह अन्य लोगों के साथ इस जुर्म में गिरफ्तार हुआ था। इनमें पांच को विभिन्न अपराधों में दोषी करार दिया जा चुका है जबकि एक को सबूतों के अभाव में छोड़ दिया गया। मामले की अक्टूबर में हुई सुनवाई में अदालत ने पाया अपराध करना फ्रैंकलिन का स्वभाव बन चुका था।
आरोपी के चंगुल में फंसी पीड़िताओं में से एक ने मीडिया को बताया कि फ्रैंकलिन महिलाओं को ज्यादातर लाइन में भेजता था। पीड़िता ने अदालत को बताया कि हर दिन उनके साथ मारपीट की जाती थी, उनका नाम लेकर चिल्लाया जाता था यहां तक कि गई लड़कियों को गंजा कर दिया जाता था। पीड़िता ने कहा कि उनके साथ जो ज्यादती की जाती थी उसके बारे पूरा नहीं बता सकती।

TOPPOPULARRECENT