Friday , November 24 2017
Home / Featured News / अमेरिका ने मेरे पाकिस्तान यात्रा के लिए वित्तीय सहायता की थी: डेविड हेडली

अमेरिका ने मेरे पाकिस्तान यात्रा के लिए वित्तीय सहायता की थी: डेविड हेडली

मुंबई हमलों से दो साल पहले लश्कर को लगभग 70 लाख रुपये का दान भी देने का दावा

मुंबई: पाकिस्तानी अमेरिकी आतंकवादी डेविड हेडली ने आज कहा कि अमेरिका ने इस यात्रा पाकिस्तान के लिए एक बार वित्तीय सहायता की थी और उसने दावा किया कि उसने मुंबई हमलों से दो साल पहले 2006 तक लश्कर को लगभग 70 लाख रुपये का ” दान ‘भी दिया था।

55 वर्षीय आतंकवादी हेडली ने जो अमेरिका से वीडियो संपर्क द्वारा जिरह किया गया, अदालत से कहा कि 1998 में उसकी गिरफ्तारी के बाद अमेरिकी औषध प्रवर्तन प्राधिकरण ने मेरे पाकिस्तान यात्रा खर्च वहन किए थे और आर्थिक मदद भी की गई थी। तत्कालीन औषध प्रवर्तन प्राधिकरण(Enforcement Authority) के साथ मेरा लिंक था लेकिन यह सही नहीं है कि 1988 और 1998 के बीच मैं औषध प्रवर्तन प्राधिकरण(Drug Enforcement Authority) को जानकारी प्रदान किए थे या उसकी मदद की थी।

हेडली जो 26/11 मामले में गवाह बन गया है और अमेरिका में 35 साल की जेल की सजा काट रहा है, इन सूचनाओं को असंगत बताया है कि उसे लश्कर से राशि प्राप्त हुई थी। मैं लश्कर राशि कभी नहीं ली। यह सरासर बेवकूफी कि बात है बल्कि मैं खुद लश्कर को फंड्स दिए थे।

मैं लश्कर को 60 से 70 लाख पाकिस्तानी रुपये दान दिया था जब तक मैं इस संगठन से जुड़े रहा मैं ही सहायता दी थी। मैं अंतिम दान 2006 में दिया था। हेडली ने अदालत को बताया कि लश्कर-ए-तैयबा को यह राशि किसी विशेष कार्रवाई के लिए नहीं दी गई बल्कि आम दान के रूप में दी गई थी।

इस दान की राशि में अपने न्यूयॉर्क में व्यापार द्वारा दी थी और मुझे जो कुछ आय मिलती उसमें से दान की राशि निकाल देता। पाकिस्तान में संपत्ति खरीदी और बिक्री से जो मुझे मिलता था उसमें से राशि ली जाती थी। मुझे याद नहीं है कि क्या मैं अमेरिकी अधिकारियों को लश्कर-ए-तैयबा को दिए जाने वाले मेरे दान की सूचना दी थी। डेविड हेडली के साक्ष्य के आधार पर शक करते हुए 26/11 हमले की साजिश अबू जिंदाल के वकील ने आज चर्चा की कि इस आतंकवादी को अतीत में दो बार सजा हो चुकी है। मुंबई हमलों से पहले वह जेल जा चुका है|

वह आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने के अलावा अमेरिकी सरकार के साथ किए गए समझौतों में सौदेबाजी की भी मांग की थी। हेडली को अमेरिका में अदालत ने सजा सुनाई है। अबू जिंदाल के वकील अब्दुल वहाब खान ने कहा कि दोनों मौके पर हेडली ने अमेरिकी सरकार के साथ समझौता करते हुए सौदेबाजी की है जिसके बाद से कम से कम सजा हुई।

हेडली ने अदालत से कहा कि 1988 में उसकी चार साल सजा खत्म होने के बाद वह 1992 से 1998 तक दवाओं की तस्करी में लिप्त रहा और इस अवधि के दौरान पाकिस्तान का भी दौरा किया। अभियोजन अदालत में वीडियो संपर्क के जरिए मामले की सुनवाई के बाद कार्रवाई बंद कर दी गई थी। आज से जिरह फिर से शुरू हुआ है। अमेरिका अज्ञात स्थान से बयान देते हुए उसने अदालत को बताया कि यह संभव नहीं था कि इस दान श्रेणियाँ को 26/11 आतंकवादी हमलों के लिए इस्तेमाल किया गया हो।

TOPPOPULARRECENT