Tuesday , September 25 2018

अमेरिका ने सीरिया में रासायनिक हमलों पर दुनिया को एक होने का आग्रह किया

वाशिंगटन : अमेरिका ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया कि सीरिया को पिछले 30 दिनों में क्लोरीन गैस के उपयोग की छठी रिपोर्ट के बाद अब किसी भी समय सीरिया रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल न करे इस पर सख्ती करे। विदेश विभाग के प्रवक्ता हिथर नॉर्ट ने एक बयान में कहा, “सीरिया के शासन द्वारा क्लोरीन गैस के उपयोग के निरंतर आरोपों से संयुक्त राज्य अमेरिका गंभीर रूप से चिंतित है।”

“हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक आवाज के साथ बोलने की इजाजत देते हैं, जो हर मौके पर असद शासन को सार्वजनिक तौर पर दबाव डालने के लिए और इसके समर्थकों को रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के लिए बंद करने और इन क्रूर हमलों के लिए ज़िम्मेदार जवाबदेह ठहराते हैं।” उन्होने एक बयान में कहा की “सीरियाई शासन को जवाबदेही से बचाकर रूस अपनी प्रतिबद्धताओं पर अडिग नहीं रहता है। सीरिया में सभी दलों द्वारा रासायनिक हथियारों के उपयोग को स्पष्ट रूप से रोकना होगा। सीरिया के लोग पीड़ित हैं शेष दुनिया देख रही है।

गौरतलब है की सीरिया में चार अप्रैल को हुए रासायनिक हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गये थे. मरने वालों में ज्यादातर बच्चे थे. अमेरिका ने हमले के लिए बशर अल-असद सरकार को जिम्मेदार बताया था लेकिन बसर सरकार ने इससे इनकार किया था.

सीरिया की बशर अल असद सरकार को रूस और ईरान जैसे देश समर्थन दे रहे हैं. रूस ने एक बयान में कहा था कि विद्रोहियों के हथियारों के जखीरे को निशाना बनाया गया तो जहरीला रसायन रिस गया. सीरिया ने बार-बार कहा है कि सेना ने 2013 में सभी रासायनिक हथियारों के भंडार को खत्म कर दिया है.

अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने सोमवार को रूस पर आरोप लगाया कि वह सीरिया के राष्ट्रपति बशर असद की सुरक्षा के हालिया सालों में नागरिकों पर कई क्लोरीन गैस के हमले की जिम्मेदार हैं। लेकिन अमेरिकी रक्षा सचिव ने पहले भी चेतावनी दी थी कि इस बारे में कोई शक नहीं है कि सीरिया के पास अब भी रासायनिक हथियार हैं. इस्राएल की सेना को भी इस बात की जानकारी मिली थी कि सीरिया के पास अब भी कई टन रासायनिक हथियार हैं.

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने ट्वीट करके कहा, “सीरिया की जनता पर किये गये किसी भी अन्य हमले की जिम्मेदारी असद पर होगी, साथ ही इसके लिए अपनी ही जनता की हत्या में असद के मददगार रूस और ईरान भी इसके लिए जिम्मेदार होंगे.”

रूसी राजदूत वासिली नेबेंजिया ने कहा, “यह हमारे लिए पूरी तरह से स्पष्ट है कि मूल रूप से सीरिया के रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल का आरोप है, जहां कोई अपराधियों की पहचान नहीं हुई है।” रूस ने एक प्रतिद्वंद्वी प्रेस वक्तव्य का प्रस्ताव रखा जिसमें कहा गया है कि गुरुवार के हमले के संदर्भ और “सीरिया में हिंसा का अस्वीकार्य स्तर है जो विशेष रूप से पूर्वी घाउट में है।” उन्होंने रासायनिक हमलों की जिम्मेदारी निर्धारित करने के लिए एक नई जांच संस्था के बारे में भाषा को शामिल करने का प्रस्ताव दिया जो कि अमेरिका और उसके सहयोगियों के लिए अस्वीकार्य है।

TOPPOPULARRECENT