Tuesday , December 12 2017

अमेरिका यूनिवर्सिटी ने शुरू किया इस्लामिक फ़ाइनैन्स में ग्रैजूएशन सर्टिफ़िकेट कोर्स

अमेरिकन यूनिवर्सिटी ने प्रोफ़ेशनल के लिए पहले से स्थापित और उभरते हुए बाज़ार में प्रतिस्पधा और अपना व्यवसाय करने के लिए इस्लामी वित्त में एक ग्रैजूएशन सर्टिफ़िकेट कोर्स आरम्भ किया है।

इस कोर्स में ऐसे पाठ्यक्रम शामिल हैं जो वैश्विक अर्थव्यवस्था और इस्लामी पूंजी बाजार में इस्लामी वित्त की भूमिका पर ध्यान केंद्रित करते हैं। कोर्सवर्क भी सुकुक (इस्लामी बांड) पर केंद्रित है, जो कि ब्याज उत्पन्न किए बिना रिटर्न उत्पन्न करने के लिए संरचित हैं, जो इस्लाम में प्रतिबंधित है।

अमेरिकी विश्वविद्यालय के कोगोड स्कूल ऑफ बिज़नेस में में रहने वाले एक अधिकारी, घायथ नगक्षबंदी के लिए, इस्लामी वित्त में ग्रैजूएशन सर्टिफ़िकेट आरम्भ होना एक सपना है जो अब पूरा होने वाला है।

नकशबंदी ने इस्लामिक फाइनेंस को आगे बढ़ाने के अपने बड़े दर्शन के हिस्से के रूप में विश्वविद्यालय में स्नातक प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम शुरू किया।

उन्होंने कहा, अमेरिका को एक बहुत अलग प्रकार के वित्तीय मॉडल से चलाया जाता है”, उन्होंने कहा कि अमेरिकी विश्वविद्यालय देश के एकमात्र संस्थानों में से एक होगा , जो यह कार्यक्रम पेश कर रहा है।

कोर्स में पुस्तकों से ज़्यादा कुछ सीखना शामिल हैं। नक्शबंदी नियमित रूप से कक्षाओं में पढ़ाने के लिए विशेषज्ञों को लाती है। न्यूज़ वाइज़ के अनुसार स्पीकर जो आते है और स्काइप के ज़रिए जुड़ते हैं उनमें कुवैत बहरेन और दूसरे देशों के  सीईओ, वकील और उच्च प्रोफ़ाइल इस्लामी वित्त पेशेवर शामिल हैं।

नक़्शेदी नहीं चाहता है कि वित्त पेशेवरों को इस्लामिक वित्त में “इस्लामिक” द्वारा विचलित होना चाहिए।

सर्टिफ़िकेट कोर्स में दाखिला लेने वाले छात्र विभिन्न तरह के बैक्ग्राउंड और धार्मिक परम्पराओं से आते हैं।

आख़िर में नकशबंदी कहते हैं कि , यह कोर्स प्रोफ़ेशनल को व्यवसाय के तरीके को फिर से परिभाषित करने में मदद करेगा।

 

TOPPOPULARRECENT