Friday , December 15 2017

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप किम जोंग के साथ बातचीत के लिए तैयार

वॉशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि वे उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ बैठक करने को निश्चित रूप से तैयार हो सकते हैं। व्यापक एशियाई दौरे पर गए ट्रंप ने यह बात सोमवार को प्रसारित हुए अपने एक साक्षात्कार में कही है। एक टीवी शो ‘फुल मीजर’ की प्रस्तोता एवं पत्रकार शेरिल एटकिसॅन ने ट्रंप से सवाल किया था कि क्या वे कभी तानाशाह के साथ बैठकर बातचीत करने के बारे में सोचेंगे? इसके जवाब में ट्रंप ने कहा कि वे कई एशियाई नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मैं किसी के साथ भी बैठक करूंगा। मुझे नहीं लगता कि यह ताकत या कमजोरी है, मुझे नहीं लगता कि लोगों के साथ बैठकर बात करना बुरी बात है। ट्रंप ने कहा कि इसलिए निश्चित तौर पर मैं इसके लिए तैयार हूं लेकिन हमें देखना होगा कि इसका नतीजा क्या होगा? मुझे लगता है कि अभी हम उस स्थिति से काफी दूर हैं। उत्तर कोरिया के लगातार परमाणु एवं मिसाइल परीक्षण करने के बाद दोनों नेताओं के बीच महीनों से वाकयुद्ध चलता आ रहा है। ऐसे में ट्रंप की ओर से यह पहला सौहार्दपूर्ण बयान जारी किया गया है।

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पांच नवंबर को अपने पांच देशों के पहले एशियाई दौरे के तहत जापान पहुंच रहे हैं। जापान के बाद वह दक्षिण कोरिया, चीन, वियतनाम और फिलीपींस का दौरा करेंगे। उनका एशियाई दौरा 14 नवंबर को फिलीपींस में समाप्त होगा। इस दौरान वह सभी देशों के साथ अहम मुद्दों पर चर्चा करेंगे। लेकिन जापान, चीन और दक्षिण कोरिया में चर्चा का मुख्य केंद्र उत्तर कोरिया होगा। लगातार मिसाइल परीक्षण करके अमेरिका को हमले की धमकी देने वाले उत्तर कोरिया की घेराबंदी के लिए यह दौरा अहम रहेगा। 25 साल में यह किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति का सबसे लंबा एशियाई दौरा

बता दें कि ट्रंप ने रविवार को उत्तर कोरिया को अप्रत्यक्ष तौर पर आगाह किया था कि किसी भी तानाशाह को अमेरिका को कम आंकना नहीं चाहिए। टोक्यो के पश्चिम में योकोता एअर बेस पर उत्साहपूर्ण सेवा कर्मियों को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा था, ‘‘किसी को भी, किसी भी तानाशाह, सरकार और राष्ट्र को अमेरिका के संकल्प को कम आंकना नहीं चाहिए।’’ ट्रंप ने उन्हें दी गई सैन्य जैकेट पहन रखी थी। उन्होंने कहा, ‘‘पूर्व में उन्होंने हमें कम आंका। यह उनके लिए अच्छा नहीं रहा। हम अपने लोगों, आजादी और हमारे महान अमेरिकी ध्वज की रक्षा में कभी नहीं हारेंगे, कभी नहीं लड़खड़ाएंगे और कभी हिम्मत नहीं हारेंगे।’’

TOPPOPULARRECENT