Wednesday , November 22 2017
Home / World / अमेरिकी वैज्ञानिकों का दावा- ‘चीन को ध्यान में देखकर रखकर भारत परमाणु हथियारों का निर्माण कर रहा है’

अमेरिकी वैज्ञानिकों का दावा- ‘चीन को ध्यान में देखकर रखकर भारत परमाणु हथियारों का निर्माण कर रहा है’

वॉशिंगटन। भारत और पाकिस्तान में दशकों से दुश्मनी चल रही है। अब तक दोनों देशों के बीच तीन बार युद्ध भी हो चुका है। इन तीनों ही युद्धों में भारत ने पाकिस्तान को मात दी है। अपने इसी दबदबे को कायम रखने के लिए भारत समय-समय पर परमाणु हथियारों का निर्माण भी करता रहता है। लेकिन, अब भारत ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है।

भारत अब पाकिस्तान के बजाए चीन को ध्यान में देखकर रखकर परमाणु हथियारों का निर्माण कर रहा है। यह दावा अमरीका के दो परमाणु विशेषज्ञों ने किया है। इन वैज्ञानिकों ने यह दावा आफ्टर मिडनाइट के जुलाई-अगस्त में प्रकाशित अपने लेख ‘इंडिया न्यूक्लियर फोर्सेस-2017’ में किया है।

इस लेख में अमरीकी वैज्ञानिक हैंस क्रिस्टेन्सन और रॉबर्ट नोरीं ने दावा किया है कि भारत ऐसी मिसाइल पर काम कर रहा है जो पूरे चीन को अपनी जद में ले ले।

अपने इस लेख में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि भारत अपना परमाणु मिसाइल बेड़ा बनाने पर जोर दे रहा है। वैज्ञानिकों के अनुसार, भारत की अग्नि-2 मिसाइल 2 हजार किलोमीटर तक मार करने में सझम है और इसकी जद में पश्चिम, मध्य और दक्षिण चीन आ जाता है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि अब भारत ऐसी मिसाइल विकसित कर रहा है जो 5000 किमी तक मार करने में सझम हो।

दोनों अमरीकी वैज्ञानिकों ने अपने लेख में कहा है कि भारत के पास 150 से 200 परमाणु हथियार बनाने के लायक प्लूटोनियम मौजूद है और उसने अब तक 120 से 130 तक परमाणु हथिया बना लिए हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि भारत अगले एक दशक में परमाणु हथियारों को लेकर नई क्षमताएं पैदा कर लेगा।

‘इंडिया न्यूक्लियर फोर्सेस-2017’ नाम से लिखे लेख में अमरीकी वैज्ञानिकों ने कहा है कि भारत के पास 7 परमाणु सक्षम सिस्टम हैं। इसमें चार बैलेस्टिक मिसाइल, दो एयरक्राफ्ट और एक समुद्र बेस्ड बैलेस्टिक मिसाइल सिस्टम है। इनका दावा है कि भारत अभी कम से कम 4 और सिस्टम पर काम कर रहा है।

TOPPOPULARRECENT