Friday , December 15 2017

अमेरीका की पाकिस्तान से माज़रत ख़्वाही (apology/ माफी मांगना) ) नाटो रूट्स बहाल

पाकिस्तान ने अफ़्ग़ानिस्तान के लिए कलीदी सप्लाई रूटस की दुबारा कुशादगी से इत्तिफ़ाक़ (सहमती) कर लिया है जिस के साथ 7 माह तवील (लंबी) रुकावट ख़त्म हो गई जो गुज़श्ता साल नवंबर में सरहद पार से मोहलिक नाटो हमले में 24 पाकिस्तानी सिपाहियों की

पाकिस्तान ने अफ़्ग़ानिस्तान के लिए कलीदी सप्लाई रूटस की दुबारा कुशादगी से इत्तिफ़ाक़ (सहमती) कर लिया है जिस के साथ 7 माह तवील (लंबी) रुकावट ख़त्म हो गई जो गुज़श्ता साल नवंबर में सरहद पार से मोहलिक नाटो हमले में 24 पाकिस्तानी सिपाहियों की हलाकत के बाद आइद कर दी गई थी, अमरीकी वज़ीर ख़ारिजा (U.S. Secretary of State ) हिलारी क्लिन्टन ने आज ये बात कही जबकि उन्होंने इन अम्वात (मौतों) के लिए माज़रत ख़्वाही करते ( क्षमा मांगते ) हुए अपने इंतिहाई गहरे तास्सुफ़ ( पश्चाताप) का इज़हार किया।

हिलारी ने आज फ़ोन पर अपनी पाकिस्तानी हम मंसब हिना रब्बानी से बात की जिसके दौरान उन्होंने बताया कि अफ़्ग़ानिस्तान के लिए ग्राउंड सपलाई लाइंस खोली जा रही हैं। हिलारी ने यहां एक बयान में कहा कि पाकिस्तान अफ़्ग़ानिस्तान और ख़ित्ता में अमन और सलामती के अज़ीम तर मुफ़ाद ( बड़े फायदे ) में कोई टरांज़ट फीस आइद नहीं करेगा।

हिलारी ने गुज़श्ता साल 26 नवंबर के नाटो हमले के लिए अमेरीका के गहरे अफ़सोस का इआदा किया और कहा कि वो और हिना दोनों ने गलतियों को तस्लीम किया जिस के नतीजा में पाकिस्तानी मिलेट्री जानों का नुक़्सान हुआ। इस वाक़िया ने दोनों मुल्क के दरमियान बड़ी सिफ़ारती ख़लीज पैदा कर दी थी।

हिलारी ने कहा में इन पाकिस्तानी सिपाहियों के ख़ानदानों से इज़हार ताज़ियत (शोक प्रकट) करती हूँ जिन की जानें गयी। हम पाकिस्तानी मिलेट्री को होने वाले नुक़्सानात पर माज़रत ख़ाह हैं। हम पाकिस्तान और अफ़्ग़ानिस्तान के साथ गहरी ताल मेल के साथ काम करते हुए इस किस्म के वाक़िया के इआदा ( दोहराने ) को रोकने के पाबंद अह्द (वचनबद्व) हैं।

TOPPOPULARRECENT