Monday , December 18 2017

अमेरीका में इराक़ी ख़ातून नफ़रत अंगेज़ बहीमाना हमला में हलाक

अमेरीका में 32 साला इराक़ी ख़ातून को नस्ली तशद्दुद का शिकार बनाते हुए शदीद ज़दकोब किया गया और उन के मुल्क वापस ना जाने की पादाश में ज़ख्मी करके हलाक किया गया । शीमा अलोदी को लोहे की सलाख से ज़दकोब किया गया ।

अमेरीका में 32 साला इराक़ी ख़ातून को नस्ली तशद्दुद का शिकार बनाते हुए शदीद ज़दकोब किया गया और उन के मुल्क वापस ना जाने की पादाश में ज़ख्मी करके हलाक किया गया । शीमा अलोदी को लोहे की सलाख से ज़दकोब किया गया ।

इस वाव्या के बाद उन्हें शदीद ज़ख्मी हालत में दवाख़ाना में शरीक किया गया था । अमेरीकी इस्लामी रीलेशन कौंसल के डायरेक्टर हनीफ़ महीबी के मुताबिक़ नस्ली हमले के बाद ये ख़ानदान शदीद सदमा से दो-चार है । उनकी 17 साला दुख्तर भी अपने कैलीफोर्निया के मकान में बेहोशी की हालत में दस्तयाब हुई ।

दुख्तर फ़ातिमा अल्हमीदी ने कहा कि इनकी वालिदा को लोहे की सलाख से मुसलसल ज़द्द-ओ-कूब किया गया । अमेरीकीयों ने उन्हें इराक़ वापस जाने की हिदायत दी , उन्होंने इनकार किया तो दहश्तगर्द क़रार देते हुए ज़दकोब किया गया ।

इराक़ से ताल्लुक़ रखने वाले इस ख़ानदान के बारे में पड़ोसीयों ने कहा कि शीमा अलोदी एक मुहज़्ज़ब ख़ातून थीं जो हमेशा इस्लामी हिजाब में रहती थीं ।

TOPPOPULARRECENT