Thursday , January 18 2018

अमेरीकी बच्चों की मौत पर ओबामा के साथ आलमी क़ाइदीन आँसू बहा रहे हैं

न्यूयॉर्क, 16 दिसंबर(पी टी आई): अमेरीकी एलमेनटरी स्कूल में होलनाक फायरिंग में 20 मासूम बच्चों और 6 टीचर्स की मौत पर शदीद सदमा-ओ-ग़म के साथ आँसू बहाते हुए आलमी क़ाइदीन ने कहा कि ये बे मक़सद और नाक़ाबिल‍ ए‍ कुबूल शैतानी हरकत है जबकि सदर अमेरी

न्यूयॉर्क, 16 दिसंबर(पी टी आई): अमेरीकी एलमेनटरी स्कूल में होलनाक फायरिंग में 20 मासूम बच्चों और 6 टीचर्स की मौत पर शदीद सदमा-ओ-ग़म के साथ आँसू बहाते हुए आलमी क़ाइदीन ने कहा कि ये बे मक़सद और नाक़ाबिल‍ ए‍ कुबूल शैतानी हरकत है जबकि सदर अमेरीका बारक ओबामा ने मुस्तक़बिल में इस तरह के सानिहात को रोकने के लिये बामानी कार्रवाई की ज़रूरत पर ज़ोर दिया ।

अमेरीकी बच्चों की मौत पर सारी दुनिया के क़ाइदीन आँसू बहा रहे हैं जब कि यही क़ाइदीन इराक़ , अफ़्ग़ानिस्तान और फ़लस्तीन के लाखों बेगुनाह मासूम बच्चों की मौत पर ख़ामोश थे । अमेरीका और इसके हलीफ़ मुल्कों के जंगों ने इराक़, अफ़्ग़ानिस्तान , फ़लस्तीन के इलावा दीगर मुस्लिम मुल्कों में लाखों बच्चों को मौत के घाट उतार दिया । उस वक़्त किसी भी आलमी लीडर और मग़रिबी मुल्कों ने अफ़सोस का इज़हार नहीं किया था ।

सदर अमेरीका बारक ओबामा ने स्कूल में अंधा धुंद फायरिंग के नतीजा में तलबा की हलाकत पर ना सिर्फ़ अफ़सोस का इज़हार किया बल्कि व्हाईट हाउस से जब वो टेलीविज़न पर पेश हुए तो उनके आँख में आँसू थे। अपनों की मौत पर ग़मगीं ओबामा को क्या कभी उन बच्चों की याद नहीं आई जिन्हें अमेरीका और इसराईल ने बमबारी के ज़रीया मौत की नींद सुला दिया है।

इराक़, अफ़्ग़ानिस्तान और फ़लस्तीन में हलाकतों की तादाद का कोई अंदाज़ा भी नहीं कर सकता। एक वेब साईट के मुताबिक़ इराक़ में 55 हज़ार, अफ़्ग़ानिस्तान में 17 हज़ार और फ़लस्तीन में तीन हज़ार बच्चे किसी क़सूर के बगै़र मौत की नींद सुला दिए गए।

ओबामा ने अमेरीकी आवाम से ख़ाहिश की है कि कल पेश आए वाक़िया का इआदा रोकने के लिए ज़रूरी है कि हम सियासत से बालातर होकर अमली इक़दामात करें। क्या यही फ़ार्मूला दीगर ममालिक के ताल्लुक़ से भी इख़तियार नहीं किया जा सकता कि अमेरीका अपने खु़फ़ीया एजंडा को तर्क करके बामक़सद इक़दामात करे ताकि मज़ीद जंगों को रोका जा सके।

इस होलनाक फायरिंग वाक़िया पर रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सेक्रेटरी जनरल बांन की मून ने इसे बहीमाना और गैर नाक़ाबिल कयास हरकत क़रार दिया जबकि न्यूयॉर्क के शहर माईकल ब्लूमबर्ग ने ओबामा पर ज़ोर दिया कि वो मुल्क के गन क़वानीन को दुरुस्त करने फ़ौरी कार्रवाई करें ।

बांन की मून ने महलूक बच्चों के अरकान ख़ानदान से इज़हार ताज़ियत किया है । योरोपी यूनीयन के डिप्लोमेसी सरबराह कैथरीन एलस्टन ने ऐसा अल-मनाक वाक़िया को सदमा ख़ेज़ क़रार देते हुए दुख का इज़हार किया और योरोपी कमीशन के सरबराह बिल बार्स ने कहा कि ये वाक़िया उनके लिये शदीद सदमा का बाइस है ।

अमेरीका में फ़रोग़ पाते बंदूक़ कल्चर-ओ-क़ानून और फायरिंग के ताज़ा वाक़िया के बाद सदर ओबामा पर दबाओ बढ़ता जा रहा है कि वो इस क़ानून में तरमीम लाएं । इस वाक़िया से अमेरीका भर में सदमा की लहर दौड़ गई है । हमलावर ज़बरदस्ती स्कूल में घुस पड़ा था । सेक्योरिटी ओहदेदार इसके फायरिंग करने की असल वजूहात का पता चलाने की कोशिश कर रहे हैं ।

TOPPOPULARRECENT