Tuesday , December 19 2017

अयोध्या मामला:12 दिसंबर को सुनवाई

बाबरी मस्जिद की शहादत के मामले में बीजेपी के सीनीयर लीडर लालकृष्ण आडवाणी पर 12 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने वाली है सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद का ढांचा शहीद करने के मामले में आडवाणी और दिगर 19 मुल्

बाबरी मस्जिद की शहादत के मामले में बीजेपी के सीनीयर लीडर लालकृष्ण आडवाणी पर 12 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने वाली है सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद का ढांचा शहीद करने के मामले में आडवाणी और दिगर 19 मुल्ज़िमो के खिलाफ साजिश का इल्ज़ाम हटाने के फैसले के खिलाफ सीबीआई की अपील पर 12 दिसंबर को सुनवाई होगी |

जस्टिस एचएल दत्तू की सदारत वाली बेंच ने कहा कि वह इस मामले में 12 दिसंबर को पूरी सुनवाई करेगी अदालत ने तीन सितंबर को सीबीआई की गुज़ारिश पर इस मामले की सुनवाई दो महीने पहले करने का तय किया था |

सीबीआई ने इस अपील में इलाहाबाद हाई कोर्ट के 21 मई, 2010 के फैसले को चुनौती दी है हाई कोर्ट ने मुतनाजा ढांचा को शहीद करने के मामले में आडवाणी और दिगर 19 के खिलाफ साजिश का इल्ज़ाम हटाने के लिए सीबीआई की खुसूसी अदालत के फैसले को सही ठहराया था |

हाई कोर्ट ने सीबीआई को रायबरेली की खुसूसी अदालत में आडवाणी और दिगर के खिलाफ दूसरे इल्ज़ामात में आगे कार्यवाही की इज़ाज़त दी थी ,जिसके इख्तेयार में यह मामला आता है खुसूसी अदालत ने आडवाणी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, मुरली मनोहर जोशी, सतीश प्रधान, सी आर बंसल, अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, साध्वी रितंभरा, विष्णु हरि डालमिया, महंत अवैद्यनाथ, आरवी वेदांती, परम हंस राम चंद्र दास, जगदीश मुनि महाराज, बैकुण्ठ लाल शर्मा, नृत्य गोपाल दास, धरमदास, सतीश नागर और मोरेश्व सावे के खिलाफ साजिश का इल्ज़ाम हटा दिया था |

इस मामले में शिव सेना सुप्रीमो बाल ठाकरे की मौत हो जाने हो जाने के सबब मुल्ज़िमों की फहरिस्त से उनका नाम हटा दिया गया था |

इस वाकिये में दो मामले हैं पहला मामला 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को शहीद करने के वक्त राम कथा कुंज के मंच पर मौजूद आडवणी और दूसरे लोगों से मुताल्लिक है, दूसरा मामला उन लाखों नामालूम कारसेवकों के खिलाफ है जो मुतनाज़ा ढांचे में और उसके आसपास थे |

सीबीआई ने आडवाणी और दिगर 20 के खिलाफ ताजीराते हिंद की द्फआ 153-ए (To create bitterness in different sections), दफआ 153-बी (Claims harmful to national unity) दफआ 505 (Propaganda and rumor) के इल्ज़ाम में मामले दर्ज किए थे |

TOPPOPULARRECENT