अरब ख़वातीन (औरतें ) साईंस-ओ-टैक्नोलोजी में यहूदी ख़वातीन (औरतें ) से आगे

अरब ख़वातीन (औरतें ) साईंस-ओ-टैक्नोलोजी में यहूदी ख़वातीन (औरतें ) से आगे

1948-में फ़लस्तीन के 78 फ़ीसद हिस्से पर क़बज़ा करके बनाई गई नाजायज़ इसराईली रियासत में बसने वाली 20 फ़ीसद अरब आबादी की ख़वातीन (औरतें )ने यहूदी ख़वातीन (औरतें ) को साईंस और टैक्नोलोजी के मैदान में मात दे दी है।एक हालिया रिपोर्ट के आदाद-

1948-में फ़लस्तीन के 78 फ़ीसद हिस्से पर क़बज़ा करके बनाई गई नाजायज़ इसराईली रियासत में बसने वाली 20 फ़ीसद अरब आबादी की ख़वातीन (औरतें )ने यहूदी ख़वातीन (औरतें ) को साईंस और टैक्नोलोजी के मैदान में मात दे दी है।एक हालिया रिपोर्ट के आदाद-ओ-शुमार (नमबर)के मुताबिक़ अरब तालिबात का 8।

फ़ीसद साईंस और टैक्नोलोजी में सानवी (सेकेंडरी ) तालीम मुकम्मल करता है जबकि दूसरी जानिब सिर्फ़ 5। फ़ीसद यहूदी तालिबात इस डिग्री के हुसूल में कामयाब होती हैं। अगर मज़हबी यहूदी तालिबात को देखा जाय तो सिर्फ 1।

फ़ीसद तालिबात इस मंज़िल को उबूर(पार) करती हैं। सर्वे के मुताबिक़ साईंस और टैक्नोलोजी के मैदान में कामयाबी हासिल करने वालों में लड़कों का हिस्सा लड़कीयों से ज़्यादा है। सैकण्डरी एजूकेशन में 5। फ़ीसद तालिबात के मुक़ाबले में 8। फ़ीसद तलबा टैक्नोलोजी में अपनी तालीम मुकम्मल करते हैं।

Top Stories