Thursday , July 19 2018

अरब लीग ने कहा- ‘इजरायल ने हजारों बेगुनाह फलस्‍तीनीयों का खून बहाया है, उसे उसकी सजा दी जाये’

अरब लीग ने गाज़ा सीमा पर प्रदर्शनकारियों के कई लोगों की मौत के बाद इजरायली बलों के “अपराध” की जांच की मांग की है, सऊदी विदेश मंत्री आदिल अल-ज़ुबैर ने फिलिस्तीनी अधिकारों के लिए अपने देश के समर्थन को दोहराया। साथ ही अल-ज़ुबैर ने कहा फिलिस्तीन मुद्दा सऊदी अरब के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

अरब न्यूज़ के मुताबिक, सऊदी विदेश मंत्री ने कहा कि, 2014 के संघर्ष के अंत से गाज़ा में 14 मई को सबसे ज्यादा हिंसा के साथ सबसे घातक दिन रहा। यूएस एम्बास्य के उद्घाटन के दौरान इजराइल सैनिकों ने गाज़ा सीमा पे हजारों फिलिस्तीनियों का खून बहाया।

सोमवार को तेल अवीव से जेरूसलम में अमेरिकी दूतावास के कदम के विरोध में लगभग 62 फिलिस्तीनी शहीद हुए है जबकि 3,000 से ज्यादा फिलिस्तीनी घायल हुए है।

अरब लीग के प्रमुख अहमद अब्दुल गईत ने काहिरा में अरब विदेश मंत्रियों की असाधारण बैठक में बोलते हुए गाजा सीमा पर हिंसा में इजराइल के खिलाफ स्वतंत्र जांच की मांग की। सऊदी विदेश मंत्री ने जोर देकर कहा कि “फिलीस्तीनी मुद्दा सऊदी अरबिया के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है।

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया को मिली जानकारी के मुताबिक, “अल-जुबैर ने कहा कि “किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ ने जोर देकर कहा है कि सऊदी अपने वैध अधिकार बहाल करने के लिए फिलिस्तीनियों का समर्थन करने में संकोच नहीं करेगा।

कुवैत विदेश मंत्री ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद इजराइल के खिलाफ को संज्ञान नहीं ले रहा है जिसकी वजह से इजराइल को फिलिस्तीनियों पर ज़ुल्म करने की अनुमति मिल है।

फिलीस्तीनी विदेश मंत्री रियाद अल-मलिकी ने गुरुवार को सुझाव दिया कि वाशिंगटन के दूतावास को आगे बढ़ाने के जवाब में अरब देशों को अमेरिका के अपने राजदूतों को याद रखना चाहिए।

अरब न्यूज़ के मुताबिक, अपने हिस्से के लिए, अरब लीग के महासचिव अहमद अबू अल-गईत ने “कब्जे के अपराधों में एक विश्वसनीय अंतरराष्ट्रीय जांच” की मांग की है। साथ ही “अमेरिकी दूतावास को जेरूसलम में ले जाने का निर्णय सभी चरणों में खारिज कर दिया गया है।

अबू अल-गईत ने कहा कि यह “गैर जिम्मेदार निर्णय इस क्षेत्र को तनाव की स्थिति में ले जाएगा।” साथ उन्होंने यूनाइटेड नेशन से इजराइल के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की मांग की है।

दूसरी तरफ, अबू अल-गईत ने जोर देकर कहा कि अरब लीग ग्वाटेमाला गणराज्य द्वारा जेरूसलम में अपनी एम्बेसी को खोलने के लिए उसकी निंदा करता है। साथ ही उन्होंने कहा ग्वाटेमाला दूतावास ने जेरूसलम में अपने दूतावास को स्थानांतरित किया है। ” इस फैसले से दुनियाभर में गुस्से का माहौल फ़ैल गया है।

TOPPOPULARRECENT