Sunday , December 17 2017

अराज़ी का मुक़द्दमा : शख़्सी हाज़िरी से इस्तिस्ना(मानहानि) केलिए सदानन्द गौड़ा की अपील

कर्नाटक के साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर डी वे सदानंद गौड़ा और उन की शरीक-ए-हयात ने सरकारी अराज़ी पर गै़रक़ानूनी तौर पर तामीर से मुताल्लिक़ एक शिकायत पर लोक आयवकत की अदालत में मुक़द्दमा की समाअत के दौरान शख़्सी हाज़िरी से इस्तिस्ना(मानहानि) देने

कर्नाटक के साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर डी वे सदानंद गौड़ा और उन की शरीक-ए-हयात ने सरकारी अराज़ी पर गै़रक़ानूनी तौर पर तामीर से मुताल्लिक़ एक शिकायत पर लोक आयवकत की अदालत में मुक़द्दमा की समाअत के दौरान शख़्सी हाज़िरी से इस्तिस्ना(मानहानि) देने की दरख़ास्त की है।

इस जोड़े पर इख़तियारी कोटे के तहत अराज़ी मुख़तस करने का इल्ज़ाम भी है जबकि ये दोनों पहले ही एक प्लाट के मालिक थे। सदा निंदा गौड़ा और उन की बीवी के वुकला ने इस ज़िमन में दरख़ास्तें दायर करते हुए कहा है कि वो चूँकि पिछ्ले रोज़ से बेलगाम में हैं, चुनांचे अदालत में शख़्सी तौर पर हाज़िर होने से क़ासिर(कमजोर) हैं। लोक आयवकत की अदालत ने इन दोनों के ख़िलाफ़ 25 सितंबर को सुमन जारी करते हुए हाज़िरी का हुक्म दिया था।

TOPPOPULARRECENT