Friday , September 21 2018

अली अबदुल्लाह सालिह मशरूत तौर पर सबकदोश होने तैय्यार

सना 21 अक्टूबर । ( ए एफ़ पी ) यमन के सदर अली अबदुल्लाह सालिह ने आज कहा कि वो ख़लीजी ममालिक की जानिब से तैय्यार की गई मुआमलत पर दस्तख़त केलिए तैय्यार हैं बशर्ते की अमरीका और योरोपी ममालिक उन्हें इक़तिदार छोड़ने के लिए मुक़र्ररा वक़्त तक की ज़म

सना 21 अक्टूबर । ( ए एफ़ पी ) यमन के सदर अली अबदुल्लाह सालिह ने आज कहा कि वो ख़लीजी ममालिक की जानिब से तैय्यार की गई मुआमलत पर दस्तख़त केलिए तैय्यार हैं बशर्ते की अमरीका और योरोपी ममालिक उन्हें इक़तिदार छोड़ने के लिए मुक़र्ररा वक़्त तक की ज़मानत दें।

उन्हों ने पार्टी के इजलास में कहा कि वो मुआमलत पर दस्तख़त करेंगे लेकिन अमरीका और योरोपी ममालिक को मुक़र्ररा वक़्त तक मोहलत की ज़मानत देनी चाहीए ।

सरकारी ख़बररसां एजैंसी सुबह-ए-ने ये इत्तिला दी । यमन में अली अबदुल्लाह सालिह के ख़िलाफ़ गुज़श्ता 9 माह से परतशद्दुद एहितजाजी मुज़ाहिरे जारी हैं और अवाम उन से मुस्ताफ़ी होने का मुतालिबा कर रहे हैं ।

उन्हों ने कहाकि सब से पहले ख़लीजी ममालिक को दूसरे योरोपी ममालिक और तीसरे अमरीका को ज़मानत दीनी चाहीए जब ये तीनों रज़ामंद होंगे तो वो ख़लीजी ममालिक की पेश करदा मुआमलत पर दस्तख़त केलिए तैय्यार हैं। उन्हों ने बताया कि मौजूदा मुआमलत पर बगै़र किसी शर्त के दस्तख़त केलिए उन पर दबाव डाला जा रहा है लेकिन ये मुम्किन नहीं ।

उन्हों ने का कहा कि मुस्ताफ़ी होने और इस मुआमलत पर अमल आवरी केलिए मुक़र्ररा वक़्त तय करने के सिलसिले में बातचीत होनी चाहीए । जारीया साल ख़लीजी ममालिक ने ये मुआमलत पर मबनी तजवीज़ पेश की थी जिस के तहत अली अबदुल्लाह सालिह को इक़तिदार नायब सदर के हवाले करना होगा ।

इस के जवाब में उन्हें और उन के साथीयों को पार्लीमैंट के मुवाख़िज़ा से तहफ़्फ़ुज़ फ़राहम किया जाएगा ।

TOPPOPULARRECENT