Thursday , December 14 2017

अलेहदगी पसंदों की हड़ताल से कश्मीर में ज़िंदगी दिरहम ब्रहम

श्रीनगर, 22 फ़रवरी: वादी कश्मीर में आज मुसलसिल दूसरे दिन सख़्त गीर हुर्रियत कान्फ्रेंस की, मुहम्मद अफ़ज़ल गुरु की नाश इस के अरकान ख़ानदान को हवाले करने के मुतालिबे की ताईद में हड़ताल के नतीजे में मामूलाते ज़िंदगी दिरहम ब्रहम होगई। बेशत

श्रीनगर, 22 फ़रवरी: वादी कश्मीर में आज मुसलसिल दूसरे दिन सख़्त गीर हुर्रियत कान्फ्रेंस की, मुहम्मद अफ़ज़ल गुरु की नाश इस के अरकान ख़ानदान को हवाले करने के मुतालिबे की ताईद में हड़ताल के नतीजे में मामूलाते ज़िंदगी दिरहम ब्रहम होगई। बेशतर दुकानें तिजारती इदारे और पेट्रोल पंप्स हड़ताल की वजह से बंद थे। सड़कों से अवामी ट्रांसपोर्ट गाड़ियां ग़ायब थीं ताहम ख़ानगी गाडियों को श्रीनगर और वादी के दीगर इलाक़ों की सड़कों पर चलता हुआ देखा गया।

सरकारी दफ़ातिर में हाज़री बहुत कम थी और बेशतर बैंक्स मर्कज़ी ट्रेड यूनियंस की मुल्क गीर हड़ताल की बिना पर बंद थे। स्कूल्स को मौसमे सर्मा की तातिलात होने की वजह से वो भी बंद थे। सय्यद अली शाह गिलानी की ज़ेरे क़ियादत हुर्रियत कान्फ्रेंस ने अफ़ज़ल गुरु को सज़ाए मौत के ख़िलाफ़ शहरी कर्फ़यू का ऐलान किया था। ये हड़ताल दो दिन मनाई जाएगी। जुमे के दिन नमाज़ के बाद बंद मनाया जाएगा और पुरअमन एहतिजाज किए जाऐंगे।

सैंकड़ों मुलाज़मीन पुलिस इंसिदाद फ़सादाद हिफ़ाज़ती मलबूस के साथ श्रीनगर के हस्सास इलाक़ों और दीगर शहरों में इमकानी एहतिजाज को नाकाम बनाने ताय्युनात किए गए थे। ओहदेदारों ने एहतियाती इक़दाम के तौर पर श्रीनगर में दफ़ा 144 नाफ़िज़ कर दिया है, क्योंकि उन्हें एहतिजाज की वजह से नज़म व‌ ज़बत के मसाइल पैदा होने का अंदेशा था। ओहदेदारों के बमूजब नक़ज़े अमन के अंदेशे के पेशे नज़र ओहदेदारों ने तहदीदात आइद किये हैं।

TOPPOPULARRECENT