अल्जीरिया की टीम का रोज़ा के बाद ग़मख़ारी का मुज़ाहरा

अल्जीरिया की टीम का रोज़ा के बाद ग़मख़ारी का मुज़ाहरा
ब्राज़ील में रवां फ़ीफ़ा वर्ल्डकप फुटबाल टूर्नामेंट में शिरकत करनेवाली अल्जीरिया की टीम ने बोनस में मिलने वाली रक़म को इस्राईली फ़ौज के मुहासिरे का शिकार अहल ग़ज़ा को अतिया करने का ऐलान किया है।

ब्राज़ील में रवां फ़ीफ़ा वर्ल्डकप फुटबाल टूर्नामेंट में शिरकत करनेवाली अल्जीरिया की टीम ने बोनस में मिलने वाली रक़म को इस्राईली फ़ौज के मुहासिरे का शिकार अहल ग़ज़ा को अतिया करने का ऐलान किया है।

अल्जीरिया की टीम को मजमूई तौर पर तक़रीबन 90 लाख डालर बोनस मिलेगा। आलमी कप के पहले मरहले में रूस के ख़िलाफ़ मैच में गोल स्कोर करके टीम को फ़तह दिलाने वाले खिलाड़ी इस्लाम सुलेमानी ने एक बयान में कहा है कि ग़ज़ा के महसूर फ़लस्तीनी हम से ज़्यादा इस रक़म के हक़दार हैं।

वाज़िह रहे कि अल्जीरिया की टीम पहली मर्तबा नाक आउट मरहले में पहुंची थी। जहां उसे जर्मनी के ख़िलाफ़ इज़ाफ़ी वक़्त में 2-1 गोल से मात दिए थे। लेकिन इस मात के बावजूद बहुत से मुबस्सिरीन ने अलजज़ीरा के खिलाड़ियों की कारकर्दगी को सराहा है और कहा हैकि टीम ने मुक़र्ररा वक़्त में जर्मन टीम का सख़्त मुक़ाबला किया था हालाँकि बहुत से खिलाड़ी रोज़े से थे लेकिन मैच के बाद इनका कहना था कि रोज़ा उनकी मात का सबब नहीं बना था।

Top Stories