Thursday , November 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए चीफ़ मिनिस्टर के खोखले दावे। नसीम खान

अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए चीफ़ मिनिस्टर के खोखले दावे। नसीम खान

मुंबई: मुसलमानों को धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं दिए जाने के मुख्यमंत्री के बयान पर यहां पूर्व अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री और महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, राष्ट्रपति मोहम्मद आरिफ नसीम खान ने जबरदस्त आलोचना करते हुए उसे गुमराह किन करार दिया है और कहा है कि मुख्यमंत्री झूठ बोल कर मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं। गौरतलब है कि सरकार के दो साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से मुलाकात के दौरान कहा था कि मुसलमानों को धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता और यह कि उनकी सरकार ने पिछली सरकार से ज्यादा अल्पसंख्यकों के विकास के लिए काम किया है। नसीम खान ने कहा कि मुसलमानों के आरक्षण के मामले में मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं या फिर उन्हें तथ्यों का ज्ञान ही नहीं है। उन्हें पता होना चाहिए कि हमारी पिछली सरकार ने मुसलमानों को धर्म के आधार पर नहीं बल्कि उनके शैक्षिक और आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण दिया था, जिसका सबसे बड़ा सबूत यह है कि अदालत में उसकी भरपूर विरोध के बावजूद शैक्षिक श्रेणी में अदालत ने यह आरक्षण बनाए रखा।

अगर मुसलमानों को धर्म के आधार पर आरक्षण दिया जाएगा, जो संविधान में क्षमता न होने से हमारी सरकार भी परिचित थी, तो अदालत उसे पहचानता? उन्होंने कहा कि हम मुसलमानों को आरक्षण देते हुए कहीं भी और कभी धर्म का नाम नहीं लिया बल्कि आरक्षण के फैसले में यह बात साफ कह दी थी कि यह आरक्षण धर्म के आधार पर नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आरक्षण के मामले में मुसलमानों की सामाजिक, शैक्षिक

इन रिपोर्टों को मद्देनजर रखा गया था जो विभिन्न आयोगों ने पेश किया है और जो बिल्कुल ही संविधान के अनुसार है। उन्होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री को इसके बारे में जानकारी न हो तो वह एक बैठक बुलाकर इस बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन वे झूठ के आधार पर मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं खान कहा कि मुख्यमंत्री का दावा है कि उनकी सरकार ने अल्पसंख्यकों के लिए पिछली सरकार से ज्यादा विकास कार्य किए हैं, मैं उनसे पूछता हूँ कि क्या कोई विवरण इस संबंध में आप या केवल मौखिक प्रस्तुत खर्च के आधार पर विकास कार्य कर रहे हैं? जबकि सच्चाई यह है कि हमारी पिछली सरकार ने अल्पसंख्यकों और अन्य पिछड़े लोगों के लिए जो विकास कार्यक्रम शुरू किए थे और जिन पर बहुत सफलतापूर्वक अमल भी जारी था, उसे मौजूदा सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया है.हम पिछड़े लोगों के लिए बचत पेट शुरू किया था, जिसके फंड रोक दिए गए, अल्पसंख्यकों के आर्थिक विकास के लिए मौलाना आजाद फ़ाइननशियल निगम से पिछले दो साल से किसी को भी मदद नहीं दी गई।

TOPPOPULARRECENT