Sunday , December 17 2017

अल कायदा के नाम पर रंगदारी

बरियातू रोड वाक़ेय डॉ केके सिन्हा के बगल में सहारा मेडिकल हॉल से अलकायदा के नाम पर रंगदारी मांगने आये दो मुजरिमों को लोगों ने बुध की शाम खदेड़ा। भीड़ देख दोनों मुजरिम जान बचा कर भागे और चेशायर होम रोड वाक़ेय यूनियन बैंक की बिल्डिंग

बरियातू रोड वाक़ेय डॉ केके सिन्हा के बगल में सहारा मेडिकल हॉल से अलकायदा के नाम पर रंगदारी मांगने आये दो मुजरिमों को लोगों ने बुध की शाम खदेड़ा। भीड़ देख दोनों मुजरिम जान बचा कर भागे और चेशायर होम रोड वाक़ेय यूनियन बैंक की बिल्डिंग पर चढ़ गये। लोगों की तरफ से शटर बंद कर देने से दोनों बिल्डिंग में फंस गये।

बाद में इत्तिला मिलते ही सदर पुलिस वहां पहुंची। काफी मशक्कत के बाद दोनों रंगदारों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। गिरफ्तार मुजरिमों में मौलाना आजाद कॉलोनी के रहने वाले राजा खान और सुहैल शामिल है, जबकि एक मुजरिम अख्तर भाग निकलने में कामयाब रहा। गिरफ्तारी से पहले मुजरिम पिस्तौल फेंक चुके थे। मुजरिमों के पास से एक चाकू, दो मोबाइल, कई सीम, दूसरे के नाम के दो एटीएम, लव लेटर और रंगदारी से मुतल्लिक़ खत बरामद किये गये। इधर, बैंक के सामने पुलिस और कुछ लोगों की चहलकदमी देख लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। इलाके में अफवाह फैल गयी कि यूनियन बैंक में डकैती हो रही है। शाम पांच बजे से लेकर सात बजे तक बिल्डिंग के अंदर पुलिस और मुजरिमों के दरमियान लुका-छिपी का खेल चलता रहा। दो घंटे बाद पुलिस दोनों को लेकर बिल्डिंग से नीचे आयी।

यूनियन बैंक मुलाज़िम दिनेश कुमार शर्मा ने बताया कि जिस वक़्त मुजरिम ऊपर चढ़े, उस वक़्त बैंक बंद हो चुका था। दोनों ने बैंक के सामने वाले कॉरिडोर में छिपने की कोशिश किया, लेकिन जगह नहीं रहने की वजह से दोनों छत पर चले गये। पुलिस के मुताबिक कांटाटोली में शाहिद बस को जलाने और बस ऑपरेटर मो सागिर की कत्ल के मामले में दोनों मुजरिम मुल्ज़िम हैं।

पुलिस ने ललकारा, किया सरेंडर

सदर डीएसपी सत्यवीर सिंह के मुताबिक पुलिस बैंक के छत पर गयी और दोनों मुजरिमों को ललकारा। दोनों को गोली मार देने की धमकी दी गयी। इससे दोनों मुजरिम डर गये और खुद को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। इत्तिला मिलते ही सदर, बरियातू, गोंदा थाना की पुलिस जाये हादसा पर पहुंची थी।

क्या लिखा था खत में..

पहले खत में लिखा था : नशा, ड्रग्स सप्लाई कर आज के डेट में बहुत पूंजी बना लिया। हमारी सर्विस पर भी तुम्हारा हक बनता है। हमारे पास तुम्हारा बायोडाटा है। अपने बंदे को तुम्हारे पास भेज रहा हूं। न सुनने की आदत हमें नहीं है। 50 हजार रुपये एसपी ऑफिस में पहुंचा दो और हर महीने दस हजार रुपये टैक्स देते रहना।

दूसरे खत में लिखा था : 15 लाख रुपये पहुंचा दो, वरना अंजाम बहुत बुरा होगा। कॉल करो इस नंबर पर (8092427464) और डायरेक्ट मनी पहुंचा दो। ज्यादा चालाकी की या पुलिस को इत्तिला दी, तो जान से हाथ धोना पड़ेगा। आपका शुभचिंतक अलकायदा ग्रुप।

TOPPOPULARRECENT