Sunday , December 17 2017

अवाम के बगै़र मैं कुछ नहीं : मलिक अबदुल्लाह

ख़ादिम हरमैन शरीफ़ैन मलिक अबदुल्लाह ने कहा कि मुल़्क की तरक़्क़ी और सालमीयत के लिए अवामी तआवुन नागुज़ीर है। उन्हों ने कहा कि वो तरक़्क़ी के लिए बेशुमार मंसूबे अपने पास रखते हैं और अल्लाह ने चाहा तो मुशतर्का काविशों के ज़रीया उन्

ख़ादिम हरमैन शरीफ़ैन मलिक अबदुल्लाह ने कहा कि मुल़्क की तरक़्क़ी और सालमीयत के लिए अवामी तआवुन नागुज़ीर है। उन्हों ने कहा कि वो तरक़्क़ी के लिए बेशुमार मंसूबे अपने पास रखते हैं और अल्लाह ने चाहा तो मुशतर्का काविशों के ज़रीया उन्हें पूरा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अवाम के बगै़र वो कुछ नहीं और वो सबसे पहले अल्लाह से मदद के तलबगार हैं जिनके बाद उन्हें अवामी ताईद की ज़रूरत है। उन्होंने दानिश्वर उनके मुज़ाकरे में हिस्सा लेते हुए तरक़्क़ीयाती कारनामों पर पेश कर्दा रिपोर्ट के हवाले से ये बात कही।

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब का दुनिया भर में मआशी मौक़िफ़ इंतेहाई मुस्तहकम है और वो अवाम को तमानीयत देना चाहते हैं कि अगर इनका तआवुन जारी रहा तो मज़ीद तरक़्क़ीयाती काम अंजाम दिए जाऐंगे।

मलिक अबदुल्लाह ने दानिश्वर उनके मुज़ाकरे के 9 वें क़ौमी फ़ोर्म के शुरका से ख़िताब करते हुए कहा कि बाअज़ खु़फ़ीया ताक़तें इस्लाम और अरबों को निशाना बनाने के दर पे हैं, लेकिन उन्हें यक़ीन है कि वो अपने नापाक अज़ाइम में कभी कामयाब नहीं होंगे।

TOPPOPULARRECENT