अवाम को क़ानूनी मालूमात में महारत हासिल करने का मश्वरह

अवाम को क़ानूनी मालूमात में महारत हासिल करने का मश्वरह
मुल्क को मुआशरे में मौजूद कई मसाइल को क़ानून के सही इस्तेमाल के ज़रीये ख़त्म किया जा सकता है। जस्टिस कल्याण ज्योति सेन गुप्ता चीफ़ जस्टिस आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने आज 74 वीं कुल हिंद सनअती नुमाइश की एवार्ड तक़रीब से ख़िताब के दौरान ये ब

मुल्क को मुआशरे में मौजूद कई मसाइल को क़ानून के सही इस्तेमाल के ज़रीये ख़त्म किया जा सकता है। जस्टिस कल्याण ज्योति सेन गुप्ता चीफ़ जस्टिस आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने आज 74 वीं कुल हिंद सनअती नुमाइश की एवार्ड तक़रीब से ख़िताब के दौरान ये बात कही।

उन्होंने क़ानूनी मालूमात में महारत हासिल करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कहा कि कई मसाइल एसे हैं जो क़ानून की आगही से ही दूर किए जा सकते हैं और उन मसाइल के हल के लिए क़ानून का जानना लाज़िमी है।

जस्टिस सेन गुप्ता ने बताया कि दस्तूर से अदम आगही के सबब अवाम इस्तिहसाल का शिकार बन रहे हैं। उन्होंने 74 वीं सनअती नुमाइश में हिस्सा लेने वाले ताजरीन को मुबारकबाद देते हुए कहा कि जमहूरी मुल्क में ताजरीन मुल्क की मईशत को मुस्तहकम बनाने में अहम किरदार अदा करते हैं।

उन्होंने बताया कि नुमाइश सोसाइटी के ओहदेदार जिस मेहनत से नुमाइश को बेहतर अंदाज़ में चलाने की कोशिश कररहे हैं वो काबिल मुबारकबाद हैं। इस मौके पर सदर नुमाइश सोसाइटी-ओ-रियासती वज़ीर पंचायत के जाना रेड्डी के अलावा एज़ाज़ी सेक्रेटरी नुमाइश सोसाइटी अश्शोविन मार्गम और् दुसरे ओहदेदार मौजूदथे।

जाना रेड्डी ने इस मौके पर अपने ख़िताब के दौरान बताया कि कुल हिंद सनअती नुमाइश को ये एज़ाज़ हासिल है कि इस नुमाइश के मुशाहिदा के लिए मुल्क की कद्दावर शख्सियतें पहुंच चुकी हैं। उन्होंने नुमाइश को हैदराबादी‍ ओ‍ तेलंगाना तहज़ीब का इमतिज़ाज क़रार देते हुए कहा कि नुमाइश सोसाइटी की तरफ से ना सिर्फ़ ताजरीन के लिए प्लेटफार्म फ़राहम किया जा रहा है बल्कि अवाम के लिए तफ़रीह का सामान भी मुहय्या किया जा रहा है। अश्शोविन मार्गम ने इस मौके पर 74वीं सनअती नुमाइश के मुताल्लिक़ तफ़सीली रिपोर्ट पेश करते हुए तमाम मुआवनीन से इज़हार-ए-तशक्कुर किया।

Top Stories