Saturday , December 16 2017

अशोक बाबू:रियासत की तक़सीम के लिए सीमांध्र क़ाइदीन ज़िम्मेदार

आंध्र प्रदेश एन जी औज़ एसोसीएशन सदर अशोक बाबू ने रियासत की तक़सीम के मसले पर सीमांध्र से ताल्लुक़ रखने वाले मर्कज़ी वुज़रा और अरकाने पार्लियामेंट की मुबय्यना ना अहली पर अपनी ब्रहमी का इज़हार किया और कहा कि महिज़ सीमांध्र के मर्कज़ी वुज़

आंध्र प्रदेश एन जी औज़ एसोसीएशन सदर अशोक बाबू ने रियासत की तक़सीम के मसले पर सीमांध्र से ताल्लुक़ रखने वाले मर्कज़ी वुज़रा और अरकाने पार्लियामेंट की मुबय्यना ना अहली पर अपनी ब्रहमी का इज़हार किया और कहा कि महिज़ सीमांध्र के मर्कज़ी वुज़रा-ओ-अरकाने पार्लीमान की कमज़ोरी-ओ-ना अहली के नतीजे में ही रियासत की तक़सीमे अमल में लाई जा रही है।

उन्होंने ज़िला कृष्णा के अवीवर मुक़ाम पर एक बड़े जलसे से ख़िताब करते हुए इल्ज़ाम लाग‌या कि सीमांध्र के मर्कज़ी वुज़रा और अरकाने पार्लीमान पैकेजस के लिए फ़रोख़त (बुक) होचुके हैं और मर्कज़ी वुज़रा और अरकाने पार्लीमान मुवाफ़िक़ मर्कज़ी हुकूमत अपना रोल अदा कररहे हैं।

उन्होंने कहा कि रियासत की तक़सीम का सीमांध्र के किसी भी मर्कज़ी वज़ीर-ओ-अरकाने पार्लीमान को कोई अफ़सोस नहीं है बल्कि मर्कज़ी वुज़रा ख़ुद वाज़िह तौर पर एलानात कररहे हैं के रियासत आंध्र प्रदेश की तक़सीम बहरसूरत यक़ीनी है।

मिस्टर अशोक बाबू ने कहा कि ग्रुप आफ़ मिनिस्टर्स को और मर्कज़ी हुकूमत को (11) उमूर पर वाज़िह तौर पर वाक़फ़ीयत नहीं है। सरकारी मुलाज़िमीन से इंतेक़ामी रवैय्या अपनाए जाने का तज़किरा करते हुए सदर ए पी एन जी औज़ एसोसीएशन ने किसी भी सरकारी मुलाज़िमीन के ख़िलाफ़ इंतेक़ामी रवैय्या इख़तियार करने की सूरत में सियासी क़ाइदीन को सख़्त इंतिबाह दिया और कहा कि मुत्तहदा रियासत के मुतालिबा की ताईद ना करने वाले सियासी क़ाइदीन को (सीमांध्र ) सरकारी मुलाज़िमीन की सख़्त ब्रहमी का सामना करना पड़ेगा।

TOPPOPULARRECENT