Sunday , May 27 2018

असद उद्दीन ओवैसी नजूमी कब से हो गए?

कांग्रेस मुक़न्निना पार्टी ने सदर मजलिस असद उद्दीन ओवैसी से इस्तिफ़सार किया कि उन्हों ने नजूमी का पेशा कब से इख़तियार किया है?

कांग्रेस मुक़न्निना पार्टी ने सदर मजलिस असद उद्दीन ओवैसी से इस्तिफ़सार किया कि उन्हों ने नजूमी का पेशा कब से इख़तियार किया है? चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी के ख़िलाफ़ ज़हरीली तशहीर छोड़ दें और कांग्रेस की ख़ामोशी को कमज़ोरी ना समझें।

आज सी एल पी ऑफ़िस असेंबली में प्रैस कान्फ़्रेंस से ख़िताब करते हुए कौंसिल के विहिप पदमा राजू ने सदर मजलिस असद उद्दीन ओवैसी की जानिब से चीफ़ मिनिस्टर को तन्क़ीद का निशाना बनाने और सिर्फ़ जनवरी तक चीफ़ मिनिस्टर के ओहदा पर बरक़रारी की पेशनगोई की सख़्त मुज़म्मत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी और चीफ़ मिनिस्टर को मजलिस और ओवैसी बिरादरान की सर्टीफिकेट की ज़रूरत नहीं है।

125 साला तारीख़ रखने वाली कांग्रेस कई इन्क़िलाब बरपा कर चुकी है, इस ने इक़तिदार और अपोज़ीशन दोनों दौर देखा है, मगर कभी अपने उसूलों से इन्हिराफ़ नहीं किया और ना ही सौदेबाज़ी की। उन्हों ने कहा कि कांग्रेस एक सैकूलर जमात है, मुल्क की तमाम अक़लीयतें कांग्रेस के साथ हैं। गवर्नमेंट विहिप ने असद उद्दीन ओवैसी से मुतालिबा किया कि उन्हों ने चीफ़ मिनिस्टर के ख़िलाफ़ जो भी रिमार्कस किए हैं, उस से फ़ौरी दस्तबरदार हो जाएं और चीफ़ मिनिस्टर के ख़िलाफ़ ज़हरीली तशहीर से बाज़ आ जाएँ।

उन्हों ने कहा कि पुराने शहर की तरक़्क़ी कांग्रेस हुकूमत का कारनामा है। कांग्रेस ने अक़लीयतों की तरक़्क़ी के लिए जो भी इक़दामात किए हैं, माज़ी में उस की कोई नज़ीर नहीं मिलती।

TOPPOPULARRECENT