Monday , December 11 2017

असम में जीत, बंगाल-केरल में एंट्री के बावजूद राज्यसभा में BJP खाली हाथ

पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनावों के नतीजे गुरुवार को जारी हो गए। इनमें से केंद्र में सत्‍ता में बैठी भाजपा ने असम में बाजी मारी। वहीं केरल में लेफ्ट, बंगाल में तृणमूल कांग्रेस, तमिलनाडु में एआईडीएमके और पुदुचेरी में डीएमके-कांग्रेस को जीत मिली।

राज्‍य सभा में कमजोर एनडीए को इन चुनावों से कोई खास फर्क नहीं पड़ा। हां, आगे चलकर भाजपा के सदस्‍यों की संख्‍या ऊपरी सदन में बढ़ सकती है। इन चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के चलते केंद्र सरकार मानसून सत्र में जीएसटी बिल को पेश कर सकती है। बंगाल में चुनाव जीतने के बाद ममता बनर्जी ने जीएसटी पर समर्थन देने की बात भी कही।

अगले कुछ महीनों में राज्‍य सभा की कुछ सीटों के लिए चुनाव होने हैं, इससे एनडीए को राहत मिल सकती है। तमिलनाडु की छह राज्‍य सभा सीटों के लिए अगले महीने चुनाव होंगे। एआईडीएमके के जतीन सांसद ए नवनीतकृष्‍णन, मनोज पॉल पांडियन और रबि बर्नार्ड, डीएमके के दो सांसद केपी रामालिंगम व एस थंगावेलु और कांग्रेस के ईएफ सुदरसन नचियप्‍पन 29 जून को रिटायर होंगे। एआईडीएमके अपने तीनों सांसदों को बरकरार रख सकती है।

डीएमके के भी अपने दोनों सांसदों को वापस भेजने की संभावना है। छठी सीट को लेकर अनिश्चितता है। न तो एआईडीएमके और न डीएमके-कांग्रेस गठबंधन के पास पहली प्राथमिकता के आधार पर इस सीट को जीतने की क्षमता है। यदि कांग्रेस इस सीट को नहीं जीत पाती है तो ऊपरी सदन में उसकी संख्‍या घटकर 64 से 63 रह जाएगी।

अगले साल रिटायर होने वाले छह में से चार सांसद टीएमसी के, एक कांग्रेस और एक लेफ्ट का है। टीएमसी पांच सांसद भेज सकती है। इससे लेफ्ट को एक सीट गंवानी पड़ेगी। इससे राज्‍य सभा में उनकी संख्‍या 8 से घटकर 7 रह जाएगी। केरल की बात करें तो यहां से नौ राज्‍य सभा सांसद हैं। पिछले महीने ही तीन सीटों के लिए चुनाव हुए हैं। बाकी बचे छह सांसदों को चुनाव जुलाई 2018 और 2021 में होना है।

असम में सात राज्‍य सभा सीटें हैं। इनमें से दो के लिए पिछले महीने ही चुनाव हुए। राज्‍य सभा के लिए अगले चुनाव यहां पर जून 2019 में होंगे। इसके चलते हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजों का राज्‍य सभा पर असर 2020 में ही पड़ेगा।

TOPPOPULARRECENT