Saturday , November 25 2017
Home / Featured News / असम में भाजपा को सत्ता से बाहर रखा जाएगा

असम में भाजपा को सत्ता से बाहर रखा जाएगा

गुवाहाटी: असम के चुनाव में  विधानसभा वजूद में आने के मामले में “बादशाह गिर” का रोल अदा करने के रोशन संभावनाओं के मद्देनजर अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने कांग्रेस , एजीपी, बी पीएफ और अन्य दलों से मिलकर एक धर्मनिरपेक्ष मोर्चा बनाने देने की ज़ो हिमायत की है ताकि भाजपा को सत्ता में आने से रोका जा सके यहाँ तक कि उन्होंने परवफला कुमार मेहता को अगले मुख्यमंत्री बनाने का प्रस्ताव जिनकी असम गण परिषद ने भाजपा के साथ चुनाव समझौता है।

बदरुद्दीन अजमल ने एक साक्षात्कार में कहा कि सांप्रदायिक भाजपा को सत्ता से दूर रखने और असम और अपने लोगों की रक्षा के लिए एक ही रास्ता है कि उक्त सभी राजनीतिक दल एक तीसरा मोर्चा बना। उन्होंने यह दावा किया कि उनकी पार्टी (यूडीएफ) 30 सीटों पर आसानी हासिल कर लेगी और अगली सरकार के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

यह दावा करते हुए कि आगामी सरकार में वह ‘किंग मेकर’ होंगे अजमल ने कहा कि हमारे बिना कोई भी पार्टी राज्य में सरकार नहीं बना सकती और हम जिस पार्टी का समर्थन करेंगे वही सुरख़रू होगी और यूडीएफ के महत्व इनकार नहीं किया जा सकता। इस पूछे जाने पर कि वह भी अगले मुख्यमंत्री बनने के इच्छुक हैं? अजमल ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री बनने का सपना नहीं रखता, मेरी नज़र चुनाव तो असम गण परिषद नेता प्रफुल्ल कुमार मेहता हैं कि पूर्व में 2 बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं क्योंकि हम 10 साल तक उनके साथ काम किया है और सरकार चलाने का अनुभव है और पूर्व में उन्होंने अल्पसंख्यकों को उचित प्रतिनिधित्व दिया था।

पहले चुनाव भाजपा के साथ एजीपी। जीपीएफ़ की समझ का जिक्र करते हुए धोबरी सांसद ने कहा कि मेरी जानकारी के अनुसार असम गण परिषद ने चुपके से कांग्रेस से साठगांठ कर ली है लेकिन स्पष्ट रूप से आर्थिक समस्याओं के कारण भाजपा के साथ हाथ मिलाया है क्योंकि भाजपा ने एजीपी वित्त है। पूर्ववर्ती विधानसभा में यूडीएफ 18 सदस्य थे और राज्य में नाममात्र मौजूद होने के बावजूद जनता दल राष्ट्र और राजद के साथ चुनावी समझौता।

अगर यूडी एफ ने भाजपा को हराने के लिए बिहार चुनाव के पदों पर महान एकता बनाने के लिये कांग्रेस और एजीपी को आमंत्रित किया था लेकिन यह कोशिश कारगर साबित नहीं हो सकी। उन्होंने आशा जताई कि कांग्रेस हाईकमान के हस्तक्षेप से यह पार्टी तीसरे मोर्चे में शामिल हो जाएगी। गौरतलब है कि असम विधानसभा की 128 सीटों के लिए परिणामों की घोषणा 19 मई को किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT