Tuesday , December 19 2017

अस्करियत पसंदों के निशाने पर हैं शहर के ताज़िर

रांची 12 जून : पंडरा ओपी इलाके में पीर को हुई बिल्डर महेश्वर प्रसाद सिंह की क़त्ल में अस्करियत तंजीम पीएलएफआइ का हाथ है। जराए के मुताबिक महेश्वर सिंह की क़त्ल को पीएलएफआइ के जेठा कच्छप दस्ते के मेम्बरान ने अंजाम दिया है। हालांकि पं

रांची 12 जून : पंडरा ओपी इलाके में पीर को हुई बिल्डर महेश्वर प्रसाद सिंह की क़त्ल में अस्करियत तंजीम पीएलएफआइ का हाथ है। जराए के मुताबिक महेश्वर सिंह की क़त्ल को पीएलएफआइ के जेठा कच्छप दस्ते के मेम्बरान ने अंजाम दिया है। हालांकि पंडरा पुलिस इस क़त्ल में मुजरिमों का हाथ मान रही है।

लापुंग के मुकामी लोगों से मिली मालूमात के मुताबिक महेश्वर प्रसाद सिंह का अहले खाना पहले लापुंग थाना इलाके के तपकरा में रहता था, लेकिन उनके अहले खाना के आरकिन को सम्राट गिरोह के अरकान ने काफी परेशान किया।

अब पीएलएफआइ के अस्करियत पसंदों ने उन्हें अपने निशाने पर ले लिया। बताया जाता है कि महेश्वर सिंह सामाजि रुझान के थे और लापुंग इलाके में वे अस्करियत पसंदों का मुखालिफत करते थे। साथ ही समाज के लोगों को साथ लेकर चलते थे। इस वजह से वह अस्करियत पसंदों की हिट लिस्ट में थे।

खबर है कि महेश्वर सिंह का पूरा खानदान ही अस्करियत पसंदों की हिट लिस्ट में है। इसके बावजूद उन्हें कोई सिक्यूरिटी फराहम नहीं करायी गयी।

TOPPOPULARRECENT