Wednesday , January 24 2018

अहले अंसार मुफाद परस्तों के झांसे में न आयें

पटना : इमारत अहले अंसार अल हिन्द की आज मीटिंग हुई। जिसमें कई अहम फैसले किए गए। इमारत अहले अंसार की रजिस्ट्रेशन के बाद ये पहली मीटिंग थी जिसमें अमीर के इंतिख़ाब न होने पर अफसोस का इज़हार किया गया। मीटिंग में हाफिज़ ईमामुद्दीन के गलत फैसले पर भी बहस हुई के मेंबरान को इत्तिला नहीं दी गयी और इमारत अहले अंसार की जानिब से अखबरात में खबर शाए हुई जो की अफ़सोसनाक है।

इमारत के तमाम मेंबरान का फैसला हुआ के अमीर को बेदखल करके अब नए अमीर का इंतिखाब किया जाना चाहिए। गुजिशता दिनों अक्लियती कमीशन के चेयरमैन ने इमारत के बेज का जो इस्तेमाल किया वो बेहद अफ़सोसनाक है। नौशाद अहमद 9 साल तक अक्लियती कमीशन में नीतीश हुकूमत के साथ रहे लेकिन उन्होने इमारत अहले अंसार के साथ जो नरवा सुलूक किया वो सबके सामने है।

अब इमारत अहले अंसार से इतनी मुहब्बत क्यों? अब उनको कोई सहारा नहीं मिला तो अहले अंसार नज़र आया। अफसोस इस बात का है की तमाम खानकाहों और अदारों के जिम्मेदारों को टोपी पहना कर और रुमाल ओढाकर नीतीश कुमार घुमाया करते थे। क्या इस वक़्त इमारत अहले अंसार नज़र नहीं आया। इमारत के तमाम अरकान को भी नीतीश कुमार मिलने से भी रोका जाता था। कई प्रोग्राम में आने से भी मना किया। हाफ़िज़ इमामुद्दीन अंसार वो दिन भूल गए जब अक्लियती कमीशन के चेयरमैन यासीन अंसारी को गिरफ्तार करने में किसी तरह की कसर नहीं छोड़ी, इस मामले में ऐसे दीगर लोग भी थे, उनको गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया।

TOPPOPULARRECENT