Monday , December 18 2017

अज़म तरीन राय दही यक़ीनी बनाने मर्कज़ और इलैक्शन कमीशन को नोटिस

सुप्रीम कोर्ट ने आज एक दरख़ास्त मुफ़ाद-ए-आम्मा पर जिस में ख़ाहिश की गई थी कि उन्हें ऐसे रहनुमायाना ख़ुतूत का ताय्युन करने की हिदायत दी जाये जिस से ज़्यादा से ज़्यादा शहरी इंतेख़ाबात में अपने हक़ राय दही से इस्तिफ़ादा करें, मर्कज़ और इलै

सुप्रीम कोर्ट ने आज एक दरख़ास्त मुफ़ाद-ए-आम्मा पर जिस में ख़ाहिश की गई थी कि उन्हें ऐसे रहनुमायाना ख़ुतूत का ताय्युन करने की हिदायत दी जाये जिस से ज़्यादा से ज़्यादा शहरी इंतेख़ाबात में अपने हक़ राय दही से इस्तिफ़ादा करें, मर्कज़ और इलैक्शन कमीशन को नोटिसें जारी कीं।

जस्टिस एच ईल दत्तू और एसए बोबड़े ने इलैक्शन कमीशन और मर्कज़ को नोटिसें जारी करते हुए ख़ाहिश की कि शहरीयों की अज़म तरीन तादाद की राय दही को यक़ीनी बनाने इक़दामात किए जाएं। ये दरख़ास्त सत्य प्रकाश ने पेश की थी। इनका कहना है कि लाज़िमी राय दही का तसव्वुर अर्जनटीना, ऑस्ट्रेलिया, बेल‌जीम और ब्राज़ील जैसे ममालिक में कामयाब होचुका है।

उसे हिन्दुस्तान में भी नाफ़िज़ किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि दस्तूर के तहत शहरीयों को मुख़्तलिफ़ बुनियादी हुक़ूक़ हासिल हैं, लेकिन अपने हक़ राय दही का इस्तिफ़ादा करने की ज़िम्मेदारी उन पर आइद नहीं की गई है।

TOPPOPULARRECENT