Wednesday , December 13 2017

अफ़ज़ल गुरु के साथ भी जल्द इंसाफ़ किया जाये

पार्लीमैंट पर हमले के मुजरिम अफ़ज़ल गुरु को दी गई सज़ाए मौत पर जल्द तामीर के मुतालिबा में शिद्दत पैदा होगई है। मर्कज़ी वज़ीर फ़ारूक़ अबदुल्लाह ने आज कहा कि इस मामले में जल्द से जल्द इंसाफ़ किया जाना चाहीए जो फ़िलहाल वज़ारत-ए-दाख़िला मे

पार्लीमैंट पर हमले के मुजरिम अफ़ज़ल गुरु को दी गई सज़ाए मौत पर जल्द तामीर के मुतालिबा में शिद्दत पैदा होगई है। मर्कज़ी वज़ीर फ़ारूक़ अबदुल्लाह ने आज कहा कि इस मामले में जल्द से जल्द इंसाफ़ किया जाना चाहीए जो फ़िलहाल वज़ारत-ए-दाख़िला में ज़ेर तसफ़ीया है।

डाक्टर फ़ारूक़ अबदुल्लाह ने पार्लीमैंट के बाहर अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत के दौरान एक सवाल पर अपने रद्द-ए-अमल का इज़हार करते हुए कहा कि जहां तक मेरा ताल्लुक़ है, में ये कहना चाहता हूँ कि अदालत पहले ही फ़ैसला करचुकी है। सुप्रीम कोर्ट ने अपना फ़ैसला देदिया है। ये मसला अब वज़ारत-ए-दाख़िला में ज़ेर तसफ़ीया है।

सदर जमहूरीया ने (रहम की दरख़ास्त को) वज़ारत-ए-दाख़िला के पास वापिस भेज दिया है। चुनांचे अब इंतेज़ार किस बात का है इंसाफ़ कर दिया जाये। 26/11 मुंबई दहश्तगर्द हमलों के मुजरिम अजमल क़स्साब को फांसी पर चढ़ाए जाने के बाद अफ़ज़ल गुरु को जल्द से जल्द फांसी देने के मांग‌ में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा हुआ है।

इस दरमयान डाक्टर फ़ारूक़ अबदुल्लाह ने ये बयान दिया है। क़ब्लअज़ीं बी जे पी के अलावा कांग्रेस के एक जनरल सैक्रेटरी डग विजय‌ सिंह ने हुकूमत से ख़ाहिश की कि अफ़ज़ल गिरोह के मसले पर जल्द से जल्द कोई फ़ैसला कर दिया जाये क्योंकि उस को 2004 में सज़ाए मौत दी गई थी।

सदर जमहूरीया प्रण‌ब मुख‌र्जी ने बिशमोल अफ़ज़ल गुरु, रहम की 7 दरख़ास्तों को ग़ौर केलिए वज़ारत-ए-दाख़िला के पास वापिस भेज दिया है। सरकारी ज़राए ने कहा कि सदर जमहूरीया केलिए ये मामूल का अमल होता है कि वो उन्हें मौसूल होने वाली रहम की तमाम दरख़ास्तों को ग़ौर के लिए नए वज़ीर-ए-दाख़िला से रुजू करदेते हैं।

सुशील कुमार शिंदे ने नए वज़ीर-ए-दाख़िला की हैसियत से एक‌ अगस्त को अपने ओहदे का जायज़ा लिया। चुनांचे सदर जमहूरीया ने रहम की 7 दरख़ास्तों को उन के पास रवाना कर दिया है।

TOPPOPULARRECENT