Sunday , December 17 2017

अफ़्ग़ानिस्तानःसैंकड़ों अम्वात पर ज़िंदा बच जाने वालों का सोग

ज़मीन खिसकने के वाक़ियात जिन में सैंकड़ों अफ़राद ज़िंदा दफ़न हो गए, शुमाली अफ़्ग़ानिस्तान के एक देहात में मरहूम रिश्तेदारों का सोग मनाने के लिए ज़िंदा बच जाने वाले अफ़राद सैंकड़ों की तादाद में जमा हो गए थे जब कि इमदादी टीम ने 700 बेघर ख़ान

ज़मीन खिसकने के वाक़ियात जिन में सैंकड़ों अफ़राद ज़िंदा दफ़न हो गए, शुमाली अफ़्ग़ानिस्तान के एक देहात में मरहूम रिश्तेदारों का सोग मनाने के लिए ज़िंदा बच जाने वाले अफ़राद सैंकड़ों की तादाद में जमा हो गए थे जब कि इमदादी टीम ने 700 बेघर ख़ानदानों की देख भाल शुरू करदी।

सूबा बदख़्शाँ के देहात आब बारीक का बेशतर हिस्सा जुमा के दिन तेज़ रफ़्तार ज़मीन खिसकने के वाक़ियात और पहाड़ी के दामन में तेज़ रफ़्तार इन्हिदाम की वजह से तकरीबन 300 मकान ज़मीनदोज़ हो गए। सरकारी ओहदेदारों ने फ़िलहाल हलाकतों की तादाद 300 बताई है और इंतिबाह दिया है कि इस में मज़ीद सैंकड़ों का इज़ाफ़ा हो सकता है।

इबतिदाई ख़बरों के बाद जिन के बामूजिब 2,500 अफ़राद फ़ौत हो चुके हैं, ज़बरदस्त हुजूम दौरे उफ़्तादा आफ़त समावी से मुतास्सिरा मुक़ाम पर जमा हो गया था जहां गहरी कीचड़ ने मकानों को ढांक दिया है और बेबसों की मदद की कोशिश जारी है। सिर्फ़ चंद नाशें मलबा से बरामद की जा सकीं।

अक़वामे मुत्तहिदा का सिफ़ारत ख़ाना बराए अफ़्ग़ानिस्तान कह चुका है कि उस के अरकाने अमला मुसीबत ज़दा मुक़ाम पर पहुंच चुके हैं। उन के हमराह अफ़्ग़ान हिलाल अह्मर तंज़ीम और दीगर इमदादी ग्रुप्स हैं।

TOPPOPULARRECENT