Sunday , July 22 2018

अफ़्ग़ानिस्तान से मुकम्मल फ़ौज की दस्तबरदारी का अमरीकी इंतिबाह

अमरीकी सदर ने अपने अफ़्ग़ान हम मंसब को ख़बरदार किया है कि काबुल हुकूमत की तरफ़ से सेक्यूरिटी के मुआहिदे पर दस्तख़त करने से मुसलसल इनकार की वजह से नैटो मिशन के बाद अफ़्ग़ानिस्तान से तमाम अमरीकी अफ़्वाज वापिस बुलाने की मंसूबाबंदी की जा

अमरीकी सदर ने अपने अफ़्ग़ान हम मंसब को ख़बरदार किया है कि काबुल हुकूमत की तरफ़ से सेक्यूरिटी के मुआहिदे पर दस्तख़त करने से मुसलसल इनकार की वजह से नैटो मिशन के बाद अफ़्ग़ानिस्तान से तमाम अमरीकी अफ़्वाज वापिस बुलाने की मंसूबाबंदी की जा रही है।

ख़बररसां इदारा ए एफ़ पी ने वाईट हाऊस के हवाले से बताया है कि सदर बराक ओबामा ने मंगल को अपने अफ़्ग़ान हम मंसब हामिद करज़ई पर वाज़ेह किया है कि दोनों ममालिक के माबैन बाहमी सेक्यूरिटी का मुआहिदा (बी एस ए) ना होने की सूरत में रवां बरस के इख़तेताम तक तमाम तर अमरीकी फ़ौजी वापिस बुलाए जा सकते हैं।

ज़राए के मुताबिक़ अलबत्ता ओबामा ने कहा है कि आइन्दा अफ़्ग़ान हुकूमत के साथ इस मुआमलत को हतमी शक्ल दीए जाने के बाद 2014 के बाद भी कुछ अमरीकी फ़ौजी अफ़्ग़ानिस्तान में तैनात रखे जा सकते हैं, जो वहां तर्बीयत और इन्सिदादे दहश्तगर्दी मिशन की ज़िम्मेदारीयां निभाएंगे।

गुज़िश्ता बरस के अवाख़िर में क़ायम किए गए इस यूनिट में ख़ुसूसी फ़ोर्सेस के इलावा इन्टेलीजेन्स ओहदेदार भी शामिल हैं, जो एहदाफ़ को मोअस्सर तरीक़े से हासिल करने में राबिताकारी का काम सरअंजाम दे रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT