Wednesday , November 22 2017
Home / District News / आंध्र क़ियादत आख़िर कब तक तेलंगाना को लूटेगी?

आंध्र क़ियादत आख़िर कब तक तेलंगाना को लूटेगी?

अगर किरायादार मकान ख़ाली करने से इनकार करे तो मालिक मकान ज़बरदस्ती सामान सड़क पर फेंक सकता है, आज हर तरफ़ चौराहे, होटलों, पान के डिब्बों पर भी यही तबसरे होरहे हैं कि तेलंगाना की तशकील का एलान ही आंध्ई अवाम पर पहाड़ बन कर टूट रहा है।

अगर किरायादार मकान ख़ाली करने से इनकार करे तो मालिक मकान ज़बरदस्ती सामान सड़क पर फेंक सकता है, आज हर तरफ़ चौराहे, होटलों, पान के डिब्बों पर भी यही तबसरे होरहे हैं कि तेलंगाना की तशकील का एलान ही आंध्ई अवाम पर पहाड़ बन कर टूट रहा है।

आख़िर सीमा आंध् क़ियादत किया तेलंगाना को और भी कंगाल बनाकर रख देगी। आज भाईयों की तरह इलाक़ों की तक़सीम पर सीमा आंध्र का एहतेजाज परतशद्दुद हालात का रुख़ करने के बावजूद हुकूमत बजाये हालात को कंट्रोल करने के एहतेजाजियों की हौसलाअफ़्ज़ाई कररही है।

हर नौजवान कह रहा हैके शहर हैदराबाद में जब एहतेजाजियों ने टैंक बंड पर मुजस्समों को मामूली नुक़्सान पहुंचाया तो हुकूमत इंतेहाई बेरहमी के साथ पेश आते हुए लाठियों का अंधा धुंद इस्तेमाल किया और कई नौजवानों को मुक़द्दमात में शामिल किया गया।

आज सीमा आंध्र में बाज़ाबता इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के मुजस्समों का हाल अवाम टेलीविज़न पर देख रहे हीं ओर ये भी देख रहे हैंके हुकूमत इन एहतेजाजियों के साथ कैसे पेश आरही है।

आंध्र से ताल्लुक़ रखने वाले हर सयासी क़ाइद ख़ाह वो किसी भी जमात के हूँ इन का चेहरा बेनकाब होगया है और तेलंगाना के अवाम की भी आँख खुल गई हैके आंध्रई क़ियादत तेलंगाना अवाम की भलाई नहीं बर्बादी की मुतमन्नी है। आख़िर क्यों हमारे क़ुदरती वसाइल से ये लोग इसतेफ़ादा करना चाहते हैं। तेलंगाना के क़ुदरती वसाइल ही नहीं वक़्फ़ ज़मिनात को उनकी जागीर बनाकर ये लोग एश करते रहे। अब जबकि इलाके की अलहदा तशकील का वक़्त आया तो होश ठिकाने आगए बल्कि एक बेरोज़गार की तरह इंटरव्यूज़ देते हुए टी वी चैनल्स पर उन्हें देख कर हैरत होरही है कि उनके घरों में कोई डकैती का तो वाक़िया नहीं होगया।

जबकि इलाके तेलंगाना के नौजवानों ने अपनी ज़िंदगीयों की क़ुर्बानी अलहदा रियासत की तशकील के लिए दी है। देर आयद दुरुस्त आयद के मिस्दाक़ सोनीया गांधी के एहसास ने इलाके तेलंगाना के अवाम के जज़बात का एहतेराम करते हुए आख़िर कार तेलंगाना का एलान किया। कांग्रेस की मरहून-ए-मिन्नत सीमा आंध्र की क़ियादत आज नए नए अंदाज़ से रियासत की तशकील में रुकावट खड़ा करने की नाकाम कोशिश कररही है।

ताहम किरायादार मालिक मकान के सब्र का पैमाना लबरेज़ ना होने दे तू ही उसकी भलाई है जबकि तेलंगाना का बच्चा बच्चा सीमा आंध्र के ख़िलाफ़ सफ़ आरा होरहा है।

TOPPOPULARRECENT