Monday , December 18 2017

आंध्र के दो अज़ला में सैलाब की सूरते हाल पर ग़ौर

आंध्र प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर एन चंद्रबाबू नायडू ने सैलाब से मुतास्सिरा अज़ला मग़रिबी-ओ-मशरिक़ी गोदावरी में राहत-ओ-इमदाद रसानी को यक़ीनी बनाने के लिए ओहदेदारों को हमावक़त चौकस रहने की हिदायत की है।

आंध्र प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर एन चंद्रबाबू नायडू ने सैलाब से मुतास्सिरा अज़ला मग़रिबी-ओ-मशरिक़ी गोदावरी में राहत-ओ-इमदाद रसानी को यक़ीनी बनाने के लिए ओहदेदारों को हमावक़त चौकस रहने की हिदायत की है।

चीफ़ मिनिस्टर ने आज यहां अपने कैंप ऑफ़िस से वीडीयो कांफ्रेंस के ज़रीया इन दोनों अज़ला के कलक्टरों और ओहदेदारों के साथ सूरते हाल का जायज़ा लिया। उन्होंने मुतास्सिरा ख़ानदानों को फी कस 10 किलो चावल तक़सीम करने की हिदायत की।

ओहदेदारों ने चीफ़ मिनिस्टर को मतला किया कि मग़रिबी गोदावरी के वीलोरोपाडो में एक माहीगीर मुश्तबा तौर पर सैलाब की लहरों में बह गया। इस ज़िला के अचिंता मंडल में 4 गांव हनूज़ पानी में महसूर हैं।

ज़िला मशरिक़ी गोदावरी में एक बांध में शिगाफ़ पड़ गया है और 24 क़रीबी गांव ज़ेर-ए-आब होगए हैं। मशरिक़ी गोदावरी की कलेक्टर नीतू कुमारी प्रसाद ने कहा कि 6 मंडलों में 599 अफ़राद के लिए 6 रीलीफ़ कैंपस क़ायम किए गए। उन्होंने कहा कि सैलाबी पानी की सतह दोपहर तक भी ऊंची रही लेकिन तवक़्क़ो हैके रात देर गए इस में कमी होगी। धोलीशोरम बयारीज पर दूसरा वार्निंग सिगनल जारी कर दिया गया है। मग़रिबी गोदावरी में दो रीलीफ़ कैंपस क़ायम किए गए हैं। वाज़िह रहे कि पिछ्ले दो दिन के दौरान दरयाए गोदावरी से तक़रीबन 137 टी एमसी फ़ीट पानी समुंद्र में छोड़ा जा है।

TOPPOPULARRECENT