आंध्र प्रदेश में किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी का आग़ाज़

आंध्र प्रदेश में किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी का आग़ाज़
हुकूमत आंध्र प्रदेश ने किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी के सिलसिले में इक़दामात का अमलन आग़ाज़ करते हुए इस्तिफ़ादा कनिन्दगान की फ़ेहरिस्त को बहुत जल्द ऑनलाइन पेश करने का फैसला किया है।

हुकूमत आंध्र प्रदेश ने किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी के सिलसिले में इक़दामात का अमलन आग़ाज़ करते हुए इस्तिफ़ादा कनिन्दगान की फ़ेहरिस्त को बहुत जल्द ऑनलाइन पेश करने का फैसला किया है।

हुकूमत आंध्र प्रदेश की जानिब से मुनक़सिम रियासत आंध्र प्रदेश में मौजूद किसानों के क़र्ज़ाजात को माफ़ करने के एलान के बाद हुकूमत ने मुकम्मल अदायगीयों का जायज़ा लेते हुए इस नतीजा पर पहुंची है कि किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी के लिए मुकम्मल तन्क़ीह के बाद ही क़र्ज़ाजात की अदाएगी यक़ीनी बनाई जाएगी।

हुकूमत आंध्र प्रदेश ने तीन मरहलों में मक़रूज़ किसानों के बैंक से जुड़े हुए कर्ज़ों की अदाएगी का जायज़ा लेने का त्यक़्कुन दिया है और बताया जाता है कि आंध्र प्रदेश में एक करोड़ 5 लाख किसानों को दीए गए क़र्ज़ाजात की माफ़ी के इक़दामात का जायज़ा लेते हुए इस बात की तमानियत हासिल की गई है कि फ़ेहरिस्त में शामिल किसानों में कितने किसान ऐसे हैं जोकि हुकूमत की जानिब से रोशनास करवाई गई क़र्ज़ माफ़ी स्कीम से इस्तिफ़ादा के अहल हैं।

हुकूमत आंध्र प्रदेश ने फैसला किया है कि इन्फ़िरादी किसानों के क़र्ज़ाजात की माफ़ी के लिए किसान ख़ानदानों के क़र्ज़ाजात की मुकम्मल माफ़ी को यक़ीनी बनाने के लिए मर्कज़ी हुकूमत से तआवुन हासिल किया जाए, क्यूंकि आफ़ाते समावी के सबब कई किसानों की फसलें तबाह हुई हैं।

Top Stories