Sunday , December 17 2017

आंध्र में चक्रवाती तूफान आने के इम्कान

आंध्र प्रदेश के साहिलों पर एक बार फिर चक्रवाती तूफान का खतरा पैदा हो गया है। महकमा मौसमियात ने जुमेरात को बताया कि मगरिबी बंगाल की खाडी के वस्त में बना दबाव अगले 24 घंटे में बढकर चक्रवाती तूफान का शक्ल इख्तियार कर सकता है।

आंध्र प्रदेश के साहिलों पर एक बार फिर चक्रवाती तूफान का खतरा पैदा हो गया है। महकमा मौसमियात ने जुमेरात को बताया कि मगरिबी बंगाल की खाडी के वस्त में बना दबाव अगले 24 घंटे में बढकर चक्रवाती तूफान का शक्ल इख्तियार कर सकता है।

विशाखापट्टनम चक्रवात इंतेबाह मरकज़ के मुतबैक दबाव विशाखापट्टनम से समुद्र में 560 किलोमीटर दूर जुनूबी‍ मशरिकी में बन रहा है जो शुमाली मगरिबी की तरफ बढेगा और चक्रवाती तूफान का शक्ल ले लेगा।

India Meteorological Department ने जुमेरात के रोज़ दोपहर के बुलेटिन में कहा,इसके बाद यह West-northwest की सिम्त में आंध्र केसाहिल की तरफ बढेगा। यह धीरे धीरे दबाव का शक्ल ले लेगा, आठ नवंबर की रात यह साहिल के करीब पहुंच जाएगा।

महकमा मौसमियात विभाग ने आंध्र प्रदेश के कई जिलों में हफ्ते और इतवार के रोज़ को हल्की बारिश होने के आसार जताए हैं। अगले 24 घंटे में आंध्र प्रदेश के साहिल के करीब और दूर हफ्त्ते और इतवार के रोज़ Andaman Islands में और इसके आसपास 35-45 से 55 किलोमीटर की रफ्तार से हवा बहेगी।

आंध्र के सभी साहिलों पर अलर्ट जारी कर दिया गया है। आईएमडी ने मछुआरों को आंध्र के साहिल और समुद्र में न जाने की सलाह दी है। याद रहे,शुमाली आंध्र के साहिल पर 12 अक्टूबर को आए चक्रवाती तूफान हुदहुद के असर से 46 लोगों की मौत हो गई थी और 9,000 मकान मुंहदिम हो गए थे और दो लाख हेक्टेयर फसलें बरबाद हो गई थीं। इस तूफान में रियासत के 21 लाख खानदान मुतास्सिर हुए थे।

TOPPOPULARRECENT