Monday , December 11 2017

आइएसआइ एजेंट जमील इलियास उर्फ भूरा गिरफ्तार

मुंबई दहलाने वाला पाकिस्तानी दहसत गर्द तंज़िम का सबसे बड़ा मास्टर माइंड हाफिज सईद के दिल्ली दहलाने की ऐलान के अगले दिन ही भारत नेपाल सरहद पर आइएसआइ का एजेंट जमील इलियास उर्फ भूरा दबोचा गया है। जो उत्तर प्रदेश के हापुड़ का रहने वा

मुंबई दहलाने वाला पाकिस्तानी दहसत गर्द तंज़िम का सबसे बड़ा मास्टर माइंड हाफिज सईद के दिल्ली दहलाने की ऐलान के अगले दिन ही भारत नेपाल सरहद पर आइएसआइ का एजेंट जमील इलियास उर्फ भूरा दबोचा गया है। जो उत्तर प्रदेश के हापुड़ का रहने वाला है।

भूरा का पाकिस्तानी आइएसआइ एजेंट इकबाल काना से सीधा राब्ता है। वह कई बार भारत में नकली नोटों के बड़े खेपों की सप्लाई भी कर चुका है। इससे मुतल्लिक़ कई अहम सुराग डीआरआइ के हाथ लगे हैं। इसकी बुनियाद पर डीआरआइ की टीम आगे की कार्रवाई कर रही है। भूरा के पकड़े जाने के बाद पूरे खुफिया महकमा में हलचल है।

जानकारी के मुताबिक डीआरआइ पटना और मुजफ्फरपुर की टीम खुफिया इत्तेला पर भूरा को जुमे की रात करीब आठ बजे भारत-नेपाल सरहद के रक्सौल से गिरफ्तार किया। भूरा अंधेरा का फायदा उठाते हुए नेपाल से भारत में दाखिल कर रहा था। बॉर्डर पर डीआरआइ की टीम ने पहले से ही जालबिछा रखा था। फिर उसे देखते ही दबोच लिया गया। टीम ने भूरा से तीन घंटे तक कड़ी पूछताछ की। उसके बाद रात में ही मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के बाद मोतिहारी जेल भेज दिया गया।

एनआइए, सीबीआइ को थी तलाश : पाकिस्तानी आइएसआइ

एजेंट जमील एलियास उर्फ भूरा को दिल्ली और यूपी पुलिस के अलावा एनआइए, सीबीआइ, आइबी और एटीएस लखनऊ की टीम महीनों से कर रही थी। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भूरा कितना बड़ा आइएसआइ का एजेंट है।

बताया जाता है कि भूरा जाली नोटों की तस्करी करने के साथ ही आइएसआइ के लिए दहशत गर्द वारदातों को अंजाम देने में भी मदद करता था। दिल्ली और यूपी के दीगर थानों में भूरा के खिलाफ कत्ल , फिरौती और जाली नोट तस्करी का आधा दर्जन से ज़्यादा मामले दर्ज है। गिरफ्तारी के बाद डीआरआइ ने इसकी इत्तेला दिल्ली और यूपी पुलिस को देने के साथ ही सीबीआइ, एनआइए और एटीएस लखनऊ को दे दी है।

TOPPOPULARRECENT