Monday , December 18 2017

आइन्दा वज़ीर-ए-आज़म को सिर्फ़ चंद सनअतकारों की फ़िक्र नहीं होनी चाहिए

एन आर आई सनअतकार लार्ड स्वराज पाल ने उमीद ज़ाहिर की कि हिन्दुस्तान का आइन्दा वज़ीर-ए-आज़म सिर्फ़ चंद सनअतकारों की फ़िक्र नहीं करेगा और ग़रीबों का ख़्याल रखते हुए हुकूमत चलाएगा।

एन आर आई सनअतकार लार्ड स्वराज पाल ने उमीद ज़ाहिर की कि हिन्दुस्तान का आइन्दा वज़ीर-ए-आज़म सिर्फ़ चंद सनअतकारों की फ़िक्र नहीं करेगा और ग़रीबों का ख़्याल रखते हुए हुकूमत चलाएगा।

ओलिवर हैंपटन यूनीवर्सिटी के ज़ेर‍-ए‍‍-एहतेमाम मुनाक़िदा कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए लार्ड पाल ने कहा कि इंतेख़ाबात के वक़्त हम हिन्दुस्तान में मौजूद हैं और ये एक अज़ीम मौक़ा है क्योंकि हिन्दुस्तान दुनिया की सब से बड़ी जम्हूरियत है, मुस्तहकम जम्हूरियत है।

चाहे दरख़शां हिन्दुस्तान या नाक़ाबिल फ़रामोश हिन्दुस्तान का नारा नाकाम होचुका हो क्योंकि इस ने मुल्क के ग़रीबों की परवाह नहीं की थी। एसी हुकूमत का इंतेख़ाब कीजिए जो ग़रीबों का ख़्याल रखती हो। उन्होंने उमीद ज़ाहिर की कि हिन्दुस्तानी अवाम जिस को भी अपना वज़ीर-ए-आज़म मुंतख़ब करेंगे वो अच्छी कारकर्दगी का मुज़ाहरा करेगा और इस बात को यक़ीनी बनाएगा कि सिर्फ़ चंद सनअतकारों की फ़िक्र ना करे बल्कि हिन्दुस्तान के एक अरब 20 करोड़ अवाम की फ़िक्र करे।

TOPPOPULARRECENT