Friday , December 15 2017

आई एस आई को जवाबदेह बनाने की मसाई(कोशिश)

सैनेट में एक बिल पेश किया गया है जो पाकिस्तान के क़सर सदारत की जानिब से ऐसी कोशिशों का हिस्सा है कि जासूस एजैंसी एंटर सरविसस इंटेलिजेंस (आई ऐस आई) को पारलीमानी निगरानी के ज़रीया क़ाबू में रखा जा सके और उसे पार्लीमैंट और हुकूमत को जवाबदेह बनाया जाय।

19 सफ़हात का मुसव्वदा बिल सदर (राष्ट्रपति ) आसिफ़ अली ज़रदारी के तर्जुमान फ़र्हत उल्लाह बाबर की जानिब से सैनेट में चंद रोज़ कब्ल पेश किया गया और उसे इमकान है कि आज शुरू होने वाले सैशन के दौरान ग़ौर-ओ-ख़ौज़ के लिए अरकान के सामने लाया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT