Saturday , December 16 2017

आई ए एस ओफीसरों के ख़िलाफ़ जांच‌ केलिए सी बी आई को चीफ मिनिस्टर की इजाज़त

* ताज़ा तरीन पेशरफ़्त के बाद आई ए एस ओफीसरों और बाज़ मंत्रीयों में हलचल , सबीता इंदिरा रेड्डी की चीफ मिनिस्टर से मुलाक़ात गीता रेड्डी को भी पूछगछ का सामना , पोनाला लकशमया ने नोटिस की वसूली की तौसीक़ करदी

* ताज़ा तरीन पेशरफ़्त के बाद आई ए एस ओफीसरों और बाज़ मंत्रीयों में हलचल , सबीता इंदिरा रेड्डी की चीफ मिनिस्टर से मुलाक़ात
गीता रेड्डी को भी पूछगछ का सामना , पोनाला लकशमया ने नोटिस की वसूली की तौसीक़ करदी
हैदराबाद । चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने इन तमाम आई ए एस ओफीसरों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई करने के लिये सी बी आई को इजाज़त देदी है जिन के ख़िलाफ़ वाई एस जगन मोहन रेड्डी के हक़ में 26 झगडालू0 सरकारी हुकमनामे ( जी ओ ) जारी करने के ज़िमन में सुप्रीम कोर्ट की तरफ़ से नोटिस जारी किए गए थे ।

उन इल्ज़ामात के बाद कि मज़कूरा सरकारी हुकमनामे ही जगन को बड़े पैमाने पर दौलत बटोरने और बदउनवानीयों में लीपित‌ होने के ज़िम्मेदार हैं । सुप्रीम कोर्ट ने छः मीत्री और आठ आई ए एस ओफीसरों को नोटिस जारी करते हुए इन आदेशपत्रों के बारे में वज़ाहत करने का हुक्म दिया था । जिस के बाद सी बी आई ने इन तमाम मंत्री और आई ए एस ओफीसरों से पूछगछ करने के लिए राजय सरकार‌ से इजाज़त की दरख़ास्त की थी जिन्हें बाख़बर ज़राए से मालूम हुवा है कि हुकूमत ने पहले ही से जेल में मौजूद मिस्टर बी पी आचार्य और मिसिज़ श्री लक्ष्मी के इलावा चंद दूसरे आई ए एस ओफीसरों से पूछगछ करने की इजाज़त देदी है ।

समझा जाता है कि चीफ मिनिस्टर ने मर्कज़ को खत‌ रवाना करते हुए हालात‌ से बाख़बर कर दिया है । चीफ मिनिस्टर से इजाज़त मिलने के बाद समझा जाता है कि सी बी आई के ज़िम्मेदार अब एल वी सब्रामुणिम से पूछगछ करेंगे जो इसवकत तरोमला तिरूपति देवा स़्थानम के एकज़ेकटीव ऑफीसर हैं ।

ये भी समझा जा रहा है कि हुकूमत एक सीनिय‌र आई ए एस ऑफीसर वेंकट रामी रेड्डी का तबादला करते हुए उन्हें कोई पोस्टिंग नहीं देगी ताकि सी बी आई उन से आज़ादाना तौर पर पूछगछ करसके ।

अभि हुइ पेशरफ़्त और तब्दीलियों ने ना सिर्फ आई ए एस ओहदेदारों बल्कि मंत्रीयों में हलचल पैदा करदी है । गुह मंत्री पी सबीता इंदिरा रेड्डी से सी बी आई ने उन की रिहायश गाह पर पिछ्ले रोज़ चार घंटों तक पूछगिछ की थी और मुख़्तलिफ़ कामों पर कई अहम सवालात किये गए

मोतबर‌ ज़राए के मुताबिक़ कई सवालों के इत्मीनान बख़श जवाब नहीं मिल सके हैं और समझा जाता है कि मिसिज़ सबीता इंदिरा रेड्डी से मज़ीद पूछगछ की जा सकती है । एक और ख़ातून वज़ीर डाक्टर जय गीता रेड्डी से भी पूछगछ की जा सकती है जो साबिक़ वाई एस आर हुकूमत में भारी सनतों की वज़ीर थीं ।

मोतबर‌ ज़राए के मुताबिक़ सी बी आई एक वज़ीर को नोटिस जारी कर चुकी है और दुसरे दो मंत्रीयों को नोटिस जारी किए जाएंगे । राज्य इन्फॉर्मेशन टेक्नोलोजी मंत्री पोनाला लकशमया ने सी बी आई नोटिस मीलने की तौसीक़ की है । मिस्टर लकशमया ने जो आँजहानी राज शेखर रेड्डी की काबीना में वज़ीर भारी आबपाशी थे कहा कि वो पहले ही सुप्रीम कोर्ट को लिखीत‌ जवाब दे चुके हैं ।

सी बी आई पहले ही मोपे देवी वेंकट रमना राउ से पूछगछ करचुकी है और पूछगछ के लिए उन्हें 21 मई को दुबारा बुलाया गया है । सी बी आई ने मिसिज़ सबीता इंदिरा रेड्डी को भी पूछगछ के लिए बुलाया था लेकिन उन्हों ने ख़ाहिश की थी सी बी आई के ज़िम्मेदार ख़ुद उन की रिहायश गाह पहूंच कर पूछगछ करें । चुनांचे शुक्रवार‌ को पूछगछ के बाद शनिवार‌ को उन्हों ने चीफ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी से मुलाक़ात करते हुए सहीह हालात‌ से वाक़िफ़ करवाया ।

इस दौरान कांग्रेस के सीनिय‌र लीडर और रुकन राज्य सभा वे हनुमंत राउ ने सी बी आई से सवाल किया कि राज्य सभा के रुकन के वे पी रामचंद्र राउ से आख़िर किस लिये पूछगछ नहीं की जा रही है ।

वाई एस आर की रूह आज भी ज़िंदा रहने का दावा करने वाले रामचंद्र राउ ने आँजहानी राज शेखर रेड्डी के दौर में किए जाने वाले फैसलों में अहम‌ रोल अदा किया था ।।

TOPPOPULARRECENT