Thursday , December 14 2017

आई सी सी की इंतिज़ामी तबदीली में पाकिस्तान का वोट अहम

पाकिस्तान और हिंदुस्तान के क्रिकेट बोर्ड सरबराहों के बीच‌ दुबई में आई सी सी इजलास के दौरान आइन्दा हफ़्ते मुलाक़ात का इमकान है। आई सी सी पर मुकम्मल कंट्रोल हासिल करने के लिए बी सी सी आई पाकिस्तान के साथ दो तरफ़ा सीरीज़ की पेशकश भी कर

पाकिस्तान और हिंदुस्तान के क्रिकेट बोर्ड सरबराहों के बीच‌ दुबई में आई सी सी इजलास के दौरान आइन्दा हफ़्ते मुलाक़ात का इमकान है। आई सी सी पर मुकम्मल कंट्रोल हासिल करने के लिए बी सी सी आई पाकिस्तान के साथ दो तरफ़ा सीरीज़ की पेशकश भी कर सकता है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के ज़राए के मुताबिक़ 8 और 9 जनवरी को आई सी सी बोर्ड के दौरान चौधरी ज़का अशरफ़ और श्री निवासन के बीच‌ मुलाक़ात हो सकती है। इस मुलाक़ात में दोनों मुल्कों के बीच‌ दो तरफ़ा सीरीज़ के बारे में बातचीत होसकती है। ज़का अशरफ़ का कहना है कि वो बी सी सी आई के सरबराह से मुलाक़ात में अपने ठोस मौक़िफ़ का इजहार‌ करेंगे।

खबर‌ के मुताबिक़ बी सी सी आई की वर्किंग कमेटी इजलास में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को ख़ुश करने का मंसूबा तैयार कर लिया गया है। इस साल नवंबर और दिसंबर में बी सी सी आई पाकिस्तान को सीरीज़ खेलने की दावत दे सकता है। ताहम अगर सीरीज़ हिंदुस्तान में हुई तो पाकिस्तान को इस सीरीज़ से एक पैसा भी नहीं मिलेगा जबकि बी सी सी आई के खज़ाने में कई लाख डॉलर जमा हो जाऐंगे।

आई सी सी पर मुकम्मल कंट्रोल के लिए हिंदुस्तान, इंगलैंड और ऑस्ट्रेलिया को आठ मुल्कों की हिमायत दरकार होगी। पाकिस्तान का वोट अहम होगा। बी सी सी आई ने एक साल पहले पाकिस्तान के साथ अपने मुल्क में तीन वन्डे और दो टी 20 खेले थे। इस सीरीज़ से हिंदुस्तान को एक सौ मिलियन डालर मुनाफ़ा हुआ था।

दोनों मुल्कों के बीच‌ दो तरफ़ा मुकम्मल सीरीज़ 2008 के बाद से नहीं होसकी है। हिंदुस्तान को इस दौरान दो मर्तबा पाकिस्तान आकर मुकम्मल सीरीज़ खेलनी थी लेकिन इसने आई सी सी फ्यूचर टूर प्रोग्राम पर अमल दरआमद नहीं किया। चननई में बी सी सी आई की वर्किंग कमेटी का हंगामी इजलास बी सी सी आई के नायब सदर शिवलाल यादव की ज़ेर-ए-सदारत हुआ।

इजलास में तीन बड़े ममालिक की जानिब से आई सी सी में मुजव्वज़ा इंतिज़ामी तबदीलियों के मंसूबे पर तफ़सीली ग़ौर किया गया। इजलास में आई सी सी में मुजव्वज़ा इंतिज़ामी तबदीलियों के मंसूबे की हिमायत करते हुए उस की तौसीक़ की गई। नए फार्मूले और तजवीज़ पर बातचीत की गई और यक़ीन ज़ाहिर किया गया कि मंसूबे की कामयाबी की सूरत में बी सी सी आई की एहमियत और आमदनी में इज़ाफ़ा होगा।

इजलास में बोर्ड ने अपने आला ओहदेदारों को आई सी सी और दीगर ममालिक से बैनुल-अक़वामी या बाहमी मुक़ाबलों के लिए मुआहिदे करने का भी इख़तियार दिया गया।

TOPPOPULARRECENT