Sunday , December 17 2017

आखिरी दांव खेलना चाहते हैं जीतनराम मांझी

बिहार के वजीरे आला जीतनराम मांझी 20 फरवरी को एदम एतमाद हासिल करने से पहले काबीना तौसिह की मंजूरी के लिए गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी पर दबाव बना हुए हैं। मांझी फिलहाल दिल्ली आए हुए हैं। उन्होंने यहां दखला वज़ीर राजनाथ सिंह और गवर्नर त

बिहार के वजीरे आला जीतनराम मांझी 20 फरवरी को एदम एतमाद हासिल करने से पहले काबीना तौसिह की मंजूरी के लिए गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी पर दबाव बना हुए हैं। मांझी फिलहाल दिल्ली आए हुए हैं। उन्होंने यहां दखला वज़ीर राजनाथ सिंह और गवर्नर त्रिपाठी से मुलाकात की। मांझी ने वजीरे आजम नरेंद्र मोदी से भी मिलने के लिए वक़्त मांगा है। वह बिहार एसेम्बली में 20 फरवरी को पेश किए जाने वाले एदम एतमाद के लिए जरूरी तादाद जुटाने को लेकर आखिरी दांव खेलना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने दिल्ली में गवर्नर से मुलाकात कर अगले दो दिनों में काबीना तौसिह के मुद्दे पर चर्चा की। इस दरमियान, गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने भी इतवार को वजीरे आजम से मुलाकात की।

ज़राये के मुताबिक, मांझी भाजपा लीडरों की मदद चाहते हैं लेकिन उन्हें अभी तक इसमें कामयाबी नहीं मिली है। भाजपा ने पहले ही मांझी को इशारा दे दिए थे कि अगर वे अपने हक़ में 30 एमएलए का हिमायत जुटा लेते हैं तभी वह एवान में उनकी मदद कर पाएगी। लेकिन मांझी के पास फिलहाल 12 से ज्यादा एमएलए नहीं हैं।

बिहार के वजीरे आला ने वजीरे आजम मोदी से भी मुलाकात करने ने के लिए पीर को वक्त मांगा है। लेकिन ज़राए का कहना है कि मोदी शायद ही मांझी से मिलें क्योंकि गुजिशता हफ्ते उनकी मांझी से मुलाकात के अच्छे सियासी इशारे नहीं गए थे। भाजपा फिलहाल मांझी के साथ नहीं आना चाहती क्योंकि इससे उसके सियासी फोर्मूले बिगड़ सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT