Sunday , December 17 2017

आजसू और तालिबे इल्म काउंसिल ने किया गोवर्नर हाउस का घेराव, कारकुनान पर बरसीं लाठियां

दारुल हुकूमत रांची की सारी हलचल बुध को गोवर्नर हाउस से लेकर वजीरे आला रिहाइशगाह के दरमियान सिमट गयी थी। आजसू का गोवर्नर हाउस मार्च और ऑल इंडिया स्टूडेंट कौंसिल के वजीरे आला रिहाइशगाह के घेराव प्रोग्राम से निबटने के लिए इंतेजामि

दारुल हुकूमत रांची की सारी हलचल बुध को गोवर्नर हाउस से लेकर वजीरे आला रिहाइशगाह के दरमियान सिमट गयी थी। आजसू का गोवर्नर हाउस मार्च और ऑल इंडिया स्टूडेंट कौंसिल के वजीरे आला रिहाइशगाह के घेराव प्रोग्राम से निबटने के लिए इंतेजामिया को काफी मशक्कत करनी पड़ी। पुलिस की तरफ से बैरिकेडिंग कर भीड़ रोकने की कोशिश किया गया था।

कारकुनानों को रोकने के लिए पुलिस ने लाठियां बरसायीं और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। मुजाहिरा के दौरान सड़क पर घंटों अफरा-तफरी का माहौल रहा। आजसू और एबीवीपी के मुजाहिरीन ने हुकूमत के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उनका कहना था कि जुलूस पुर अमन तरीके से निकाला गया था, लेकिन पुलिस इंतेजामिया ने ताबड़तोड़ कार्रवाई की।

मोरहाबादी से जुलूस का कियादत पार्टी सदर सुदेश महतो, कमल किशोर भगत, चंद्र प्रकाश चौधरी और उमाकांत रजक समेत दीगर लीडर कर रहे थे।

नवीन जायसवाल और रामचंद्र सइस ने दूसरी तरफ से जुलूस का कियादत किया। अजसु के मुजाहिरा के दौरान मछली घर के पीछेवाली सड़क पर घंटों अफरा-तफरी का माहौल रहा। भीड़ को रोकने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

बाद में सुदेश कुमार महतो की कियादत में चंद्र प्रकाश चौधरी, कमल किशोर भगत, उमाकांत रजक, नवीन जायसवाल, रामचंद्र सइस और तिलेश्वर साहू की बीवी साबी देवी ने गोवर्नर डॉ सैयद अहमद को आठ नुकती मुतालिबात सौंपा। लीडरों ने रियासती हुकूमत पर जम कर वार किया।

TOPPOPULARRECENT