Wednesday , January 24 2018

आज़मीन-ए-हज्ज को इत्तेला

बीदर 14 जुलाई: मोतमिद अंजुमन ख़ादिम अलहजाज ज़िला बीदर के एक सहाफ़ती बयान के मुताबिक़ हज कमेटी आफ़ इंडिया की तरफ से आज़मीन-ए-हज्ज 2013 के लिए दूसरी और आख़िरी क़िस्त का एलान होचुका है।

बीदर 14 जुलाई: मोतमिद अंजुमन ख़ादिम अलहजाज ज़िला बीदर के एक सहाफ़ती बयान के मुताबिक़ हज कमेटी आफ़ इंडिया की तरफ से आज़मीन-ए-हज्ज 2013 के लिए दूसरी और आख़िरी क़िस्त का एलान होचुका है।

जिस के मुताबिक़ ग्रीन ज़मुरा के आज़मीन के लिए 1,03,800 रुपये और अज़ीज़ ये ज़मुरा के आज़मीन 73,750 है। मजकुरह रक़म 27 जुलाई से पहले अदा करना लाज़िमी है।

जिस आज़िम का इतेख़ाब रबात के लिए हुआ है वो आज़िम अपने अपने कनफ़रमीशन लेटर के साथ सिर्फ़ और सिर्फ़ 31,460 रुपये जमा करें और अगर आज़मीन मक्का के साथ मक्का मुकर्रमा की रिहायश ( रबात) का भी रिहायश नामा इजाज़तनामा साथ रखते हैं तो उन्हें सिर्फ़ और सिर्फ़ 23,400 रुपये ही देने होंगे।

चूँके ताहाल रबात की क़ुरआ अंदाज़ी या इंतेख़ाब नहीं हुआ है। इस लिए जिन्होंने रबात की ख़ातिर दरख़ास्त दी है वो रबात के नतीजे का इंतेज़ार करें।

जो यक़ीनी तौर पर 27जुलाई से क़बल होगा। सयद मंसूर कादरी ने तमाम आज़मीन-ए-हज्ज से अपील की हैके वो रक़म की अदायगी से पहले इंटरनेट पर अपने ज़मुरा की कैफ़ीयत जांच लें। और मौजूदा कैफ़ीयत के एतबार से रक़म अदा करें। बैंक चालान की Pay in Slip दफ़्तर अंजुमन ख़ादिम अलहजाज मुत्तसिल जाम मस्जिद बीदर पर दस्तयाब है।

TOPPOPULARRECENT