आजादी के बाद पहली बार रिकॉर्ड संख्या में 51 मुस्लिम सहित 131 अल्पसंख्यकों का प्रशासनिक सेवा में चयन किया गया- मुख्तार अब्बास नकवी

आजादी के बाद पहली बार रिकॉर्ड संख्या में 51 मुस्लिम सहित 131 अल्पसंख्यकों का प्रशासनिक सेवा में चयन किया गया- मुख्तार अब्बास नकवी
Click for full image

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि इस वर्ष आजादी के बाद पहली बार रिकार्ड संख्या में 51 मुस्लिमों सहित 131 अल्पसंख्यक युवाओं का प्रशासनिक सेवाओं के लिए चयन किया गया है। नकवी ने कहा कि पिछले वर्ष भी प्रतिष्ठित प्रशासनिक सेवाओं में 52 मुस्लिमों सहित 126 अल्पसंख्यक युवाओं का चयन किया गया था।

नकवी ने कहा कि पिछले वर्ष प्रशासनिक सेवाओं में 1,099 लोगों का चयन किया गया था, जिसमें 52 मुस्लिम युवा थे, जो कुल चयनित उम्मीदवारों का 4.5 प्रतिशत है। प्रतिशत के लिहाज से इस वर्ष कुल 990 सफल उम्मीदवारों में से मुस्लिमों का प्रतिशत 5.15 है। इस वर्ष तीन महिलाओं सहित छह मुस्लिमों का रैंक शीर्ष 100 में रहा।

उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों से ताल्लुक रखने वाले होनहार युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर मुफ्त कोचिंग कार्यक्रम चला रहा है।

विभिन्न संस्थानों और संगठनों के जरिए मंत्रालय प्रशासनिक सेवाओं, अन्य यूपीएससी परीक्षाओं, मेडिकल, इंजीनियरिंग और प्रशासनिक परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अल्पसंख्यक युवाओं के लिए नई उड़ान, नया सवेरा जैसे कोचिंग कार्यक्रम चला रहा है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 के दौरान अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों के प्रशासनिक सेवा परीक्षा की प्रारंभिक (प्रीलिमिनरी) परीक्षा पास करने वाले युवाओं को नई उड़ान योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्रदान की गई है। नकवी ने कहा कि इस वर्ष देश भर के 15000 से अधिक युवाओं को मुफ्त कोचिंग प्रदान की जाएगी।

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष नई उड़ान और नया सवेरा योजनाओं में संशोधन किया गया और यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वालों के लिए वित्तीय सहायता राशि की दर 50 हजार रुपये से बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दी गई है।

नकवी ने कहा कि नया सवेरा कार्यक्रम के अंतर्गत अल्पसंख्यक मामलों का मंत्रालय अल्पसंख्यक युवाओं को मुफ्त कोचिंग प्रदान करने के लिए प्रतिष्ठित संस्थानों और संगठनों के साथ कार्य कर रहा है।

Top Stories